प्राणहिता और गोदावरी उफान पर, कालेश्वरम के निकट दर्ज हुआ 3.79 लाख क्यूसेक पानी

14 Aug, 2020 09:30 IST|के. लक्ष्मण
उफान पर प्राणहिता नदी

प्राणहिता और गोदावरी नदियों में दोनों पानी का स्तर बढ़ गया है

बराज के सभी गेट खोलकर 4 लाख क्यूसेक पानी निचले क्षेत्र में छोड़ा गया

हैदराबाद : गोदावरी नदी के ऊपरी क्षेत्र में पिछले दो दिनों से हो रही बारिश के चलते प्राणहिता नदी उफान पर है। छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में हो रही भारी बारिश के कारण नदी-नाले का पानी प्राणहिता में आ पहुंचा। इससे प्राणहिता में बाढ़ आ गई है।  

इसके अलावा गोदावरी नदी के उपरी क्षेत्र में भी भारी बारिश होने से दोनों नदियों में पानी का स्तर बढ़ गया है। कालेश्वरम के निकट 3.79 लाख क्यूसेक पानी का प्रवाह दर्ज किया गया। अब के मौसम में यही नदी में बढ़ा पानी का प्रवाह है। केंद्र जल संघ ने इससे पहले ही तेलंगाना के साथ निचले क्षेत्र के लोगों को सतर्क किया है। संघ ने कहा कि नदियों में और जलस्तर बढ़ सकता है। 

कालेश्वरम के निकट हर साल जून के दूसरे सप्ताह में नदी का प्रवाह बढ़ने लगता है लेकिन इस बार जुलाई से पानी का प्रवाह बढ़ने लगा है। पिछले साल जुलाई के पहले सप्ताह में 50 क्यूसेक से अधिक पानी का था तो इस साल जुलाई के पहले सप्ताह में 50 हजार से 1.10 लाख क्यूसेक पानी का बहाव आया। यह प्रवाह घटकर 80 क्यूसेक हुआ। 

इस बार बारिश देरी से शुरू हुई। इस महीने की 11 तारीख को 83 हजार क्यूसेक पानी का प्रवाह दर्ज किया गया। 12 तारीख यह प्रवाह बढ़कर 2 लाख क्यूसेक हुआ। गुरुवार 13 तारीख को पानी का प्रवाह अचानक 3.79 लाख क्यूसेक तक बढ़ा। मेडीगड्डा लक्ष्मी बराज में फिलहाल 16.17 टीएमसी पानी का स्तर बढ़ने से 9.20 टीएमसी जलभराव रहा। बराज के सभी गेट खोलकर 4 लाख क्यूसेक पानी निचले क्षेत्र में छोड़ा गया।

Related Tweets
Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.