टीएसआरटीसी गंभीर वित्तीय समस्याओं में फंसा, कर्मचारियों को अक्टूबर महीने का वेतन मिलना मुश्किल!

24 Sep, 2020 17:43 IST|के. राजन्ना
फाइल फोटो

कर्मचारियों को अक्टूबूर महीने का वेतन मिलना मुश्किल

मार्च महीने में लिये गये 600 करोड़ रुपये खर्च हुआ है

हैदराबाद: तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम (टीएसआरटीसी) गंभीर वित्तीय समस्याओं में फंस गया है। आरटीसी प्रबंधन अपने कर्मचारियों को अक्टूबूर महीने का वेतन देने की स्थिति में नहीं है। इस साल मार्च महीने में लिये गये 600 करोड़ रुपये के कर्ज से अब तक वेतन देते आई है। लिया गया कर्ज पिछले महीने में ही पूरी तरह से खर्च हो गया है। आरटीसी के पास अगले महीने कर्मचारियों को सैलरी देने के लिए पैसे नहीं हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, तीन दिन पहले सरकार के मुख्य सचिव की बैठक में यह मुद्दा चर्चा में आया था। इसके चलते आरटीसी एमडी सुनील शर्मा ने वित्त मंत्रालय के अधिकारियों को आरटीसी कर्मचारियों के वेतन के लिए धन समायोजित करने के आग्रह किया। मगर उन्होंने इसके लिए इंकार कर दिया। उन्होंने यह भी कहा कि उनके पास इस समय इतनी रकम नहीं है। अगर रकम जरूरत हो तो इस बारे में सीएम केसीआर से बातचीत करनी होगी।

दूसरी ओर, आरटीसी ने कहा है कि आय के लिए वैकल्पिक स्रोतों पर ध्यान देने पर जोर देना चाहिए। मगर हर महीने वित्त मंत्रालय से पैसे मांगना उचित नहीं है। इस बात को लेकर आरटीसी एमडी सुनील शर्मा ने अधिकारियों के साथ बैठक की और राजस्व बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की। 

यह भी पढ़ें :

शहर में शुक्रवार से सड़क पर दौड़ेंगी आरटीसी बस, कोरोना काल में कुछ ऐसी है तैयारी

इसी क्रम में केंद्र सरकार द्वारा लागू किये गये बैंक के ऋणों की समय सीमा समाप्त होने के बाद बैंकों को आरटीसी बड़ी रकम भुगतान करना होगा। यदि बैंक का कर्ज का भुगतान नहीं किया जाता है तो गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) के रूप में आरटीसी पर बुरा असर पड़ेगा। 

दूसरी ओर किराये बस के मालिक पिछले तीन महीने से बकाया बिल रकम के लिए चक्कर लगा रहे है। उन्होंने तीन दिन पहले बस भवन का घेराव भी किया। साथ ही चेतावनी दी है कि बिल भुगतान नहीं किया जाता है, तो कानूनी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहे।

इसी क्रम में RTC को-ऑपरेटिव सेविंग्स सोसाइटी (CCS) ने अपने धन का उपयोग किये जाने के चलते उच्च न्यायालय में अवमानना ​​का याचिका दायर कर चुकी है। हाईकोर्ट ने प्रबंधन को 5 मई को अदालत में पेश होने का निर्देश दिया है। इस तरह आरटीसी पर चारों ओर से वित्तीय समस्या का दबाव बढ़ता ही जा रहा है।

आरटीसी ने बुधवार को दैनिक राजस्व को बढ़ावा देने के लिए शहर के आस पास गांवों के लिए बसों को संचालित करने फैसला लिया है। इस समय हैदराबाद में सिटी बसों की अनुमति नहीं मिलने के कारण जिलों को बस सेवाएं जारी हैं। शहर के 18 डिपो से 230 सेवाओं का संचालन शुरू किया गया है। शहर से 50 से 60 किमी क्षेत्र के कुछ गांवों के लिए ये बसें चलाई जा रही हैं। 

आरटीसी को अनुमान है कि इसके जरिए हर दिन 25 लाख रुपये तक का राजस्व प्राप्त होगा। अधिकारियों का यह भी मानना ​​है कि इससे जिला सेवाओं के माध्यम से वर्तमान में आने वाली 4 करोड़ रुपये की दैनिक आय में और वृद्धि होगी। 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.