हैदराबाद स्थित उस्मानिया युनिवर्सिटी वीसी पद के लिए चल रही जोरदार लॉबिंग, इन नामों पर चर्चा

17 Jan, 2021 17:46 IST|संजय कुमार बिरादर
कॉंसेप्ट इमेज

हैदराबाद :  पिछले दिनों दो विश्वविद्यालयों के लिए कुलपतियों की नियुक्त किए जाने से अब उस्मानिया सहित अन्य सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की नियुक्ति को लेकर यूनिवर्सिटी के प्राध्यापकों, कर्मचारियों व विद्यार्थियों में चर्चा छिड़ गई है। हर योग्य अध्यापक की इच्छा होती है कि 100 साल पूरे कर चुके ऐतिहासिक उस्मानिया यूनिवर्सिटी के कुलपति बने। इसके लिए अनेक प्रोफेसर कुलपति पोस्ट के लिए आवेदन करके पिछले 18 महीने से नियुक्ति का इंतजार कर रहे हैं। 

दरअसल, पहली बार यूनिवर्सिटी में विभिन्न पदों पर काम कर रहे प्रोफेसर बड़ी संख्या में कुलपति पद की होड़ में हैं। OU कॉलेज के प्रिंसिपल से लेकर रजिस्ट्रार तक VC पद की होड़ में हैं। इनमें से कुछ अध्यापक OU के VC पद के लिए मैदान में उतर चुके हैं तो कुछ किसी न किसी यूनिवर्सिटी के VC बनने की उम्मीद लिए बैठे हैं।  गौतलब है कि अकादमिक सहित अन्य योग्यताओं के साथ जाति, क्षेत्र, प्रशासनिक क्षमता आदि विषयों को ध्यान में लेकर VC की नियुक्ति की जाती है।

OU के VC पद की होड़ में अधिकारी...

OU के विभिन्न विभागों के प्रोफोसर कुछ प्रशासनिक पदों पर कार्यरत अधिकारी हैं। कुलपति पद के लिए आवेदन करने वालों में जातिवार अगर हम देखें, तो OC (रेड्डी, वेलमा, ब्राह्मण, कम्मा), रजिस्ट्रार प्रो.गोपाल रेड्डी, साइंस के डीन, पूर्व रजिस्ट्रार प्रो. प्रताप रेड्डी, ईएमएमआरसी के डायरेक्टर प्रो. नरेंदर, अकादमिक ऑडिट सेल के पूर्व डायरेक्टर प्रो, वेणुगोपाल राव, अर्बन स्टडीज के पूर्व डायरेक्टर प्रो. पार्थसारथी शामिल हैं।

BC में उस्मानिया विश्वविद्यालय के ऑर्ट्स कॉलेज के प्रिंसिपल प्रो. रविंदर, पूर्व कुलपति प्रो. रामचंद्रम, डिस्टेंन्स एजुकेशन के डायरेक्टर प्रो. चिंता गणेश, यूजीसी स्टाफ कॉलेज के पूर्व डायरेक्टर प्रो. बालकिशन, कामर्स कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल प्रो. शेखर, हायर एकुजेशन काउंसिल के चेयरमैन प्रो. वेंकटरमणा, आर्ट्स कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल प्रो, कस्तूरी लक्ष्मी, केमिस्ट्री विभाग के हेड प्रो. वीरसोमय्या आदि शामिल हैं।

एससी में (माला,मादिगा) के ओएडी प्रो. कृष्णा राव, राज्य उच्च शित्रा परिषद के वाइस चेयरमैन प्रो.लांबाद्री, जिला पीजी केंद्र के निदेशक प्रो. नायडू अशोक, पूर्व कंट्रोलर, एमबीए हेड प्रो. नागेश्वर राव, टेक्नोलॉजी कॉलेज के प्रिंसिपल प्रो. श्याम सुंदर, इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल प्रो, कुमार. यूजीसी स्टाफ कॉलेज के पूर्व डायरेक्टर प्रो. मुत्तय्या, टीएसपीएस के पूर्व सदस्य प्रो. साइलू हैं, जबकि एसटी अध्यापकों में पीजी एडमिशन्स के पूर्व डायरेक्टर प्रो. शिवराज, निजाम कॉलेज के प्रिंसिपल प्रो. लक्ष्मीकांत राठौड़. लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल नायक प्रो. पंत नायक, प्रो. सूर्यधनुंजय आदि शामिल हैं। इनमें से अधिकांश लोगों को तीन से चार पदों पर काम करने का अनुभव है।

एसटी या फिर एससी प्रोफेसरों को मौका... !
OU के VC पद इस बार एसटी या फिर एससी प्रोफेसरों को मिलने की संभावना का प्रचार हो रहा है। 100 साल पूरे कर चुके उस्मानिया यूनिवर्सिटी के लिए अब तक कमजोर तबकों के अध्यापक कुलपति नहीं बने हैं। पिछले कुछ समय से दलित समुदाय को VC पद दिए जाने की मांग उठती रही है। पृथक तेलंगाना राज्य बनने के बाद से कमजोर तबकों को कुलपति का पद मिलने की उम्मीद लिए बैठे हैं।

पैरवी जोरों पर
उस्मानिया विश्वविद्यालय के कुलपति पद के लिए आवेद कर चुके अध्यापक अपने-अपने स्तर पर पैरवी करने में लगे हुए हैं। वीसी पद के लिए जरूरी सभी योग्यताएं होने के बावजूद अध्यापकों के बीच प्रतिस्पर्ध अधिक होने से अध्यापक अब पैरवी का रास्ता अपना रहे हैं। विभिन्न विभागों के मंत्रियों सहित सत्तारूढ़ पार्टी के विधायकों, सांसदों तथा विद्यार्थी संगठनों के नेताओं के जरिए पैरवी करवा रहे हैं। परंतु मीडिया में ये भी खबरें आ रही हैं कि कोई चाहे कितनी भी पैरवी कर लें, सीएम केसीआर द्वारा चुने जाने वाले प्रोफेसर ही उस्मानिया यूनिवर्सिटी के कुलपति बन सकते हैं।

इसे भी पढ़ें :भारी बारिश के चलते स्थगित की गई OU परीक्षाएं, जल्द जारी होगी अगली तारीख

सोशल मीडिया पर अफवाह, कोरोना वैक्सीन से युवाओं के बूढ़े होने का खतरा है !

दूसरी तरफ, अने विद्यार्थी कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन के बाद यूनिवर्सिटी में बदहाली छाने का हवाला देते हुए जाति-धर्म और क्षेत्र से ऊपर उठकर समर्थ प्रोफेसर को OC का कुलपति नियुक्त करने की अपील कर रहे हैं। यूनिवर्सिटी में बगैर किसी झगड़े और वादविवाद के कैंपस में शांति बनाए रखने के साथ शिक्षा का माहौल बनाने में समर्थ अद्यापक को कुलपति नियुक्त करने का अनुरोध कर रहे हैं।

Related Tweets
Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.