GHMC Election Results: इस वजह से कई सीटों पर लटक सकते हैं नतीजे

4 Dec, 2020 15:23 IST|Sakshi
GHMC चुनाव के लिए वोटों की गिनती

हैदराबाद: ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम यानी जीएचएमसी चुनाव नतीजे 2020 पर हाइकोर्ट के एक आदेश ने बड़ा प्रभाव डाला है। दरअसल हाईकोर्ट ने राज्य चुनाव आयोग के उस आदेश को खारिज कर दिया, जिसमें चुनाव आयोग ने कहा था कि मतगणना में ऐसे मतों को भी वैध माना जायेगा, जिन मतपत्रों पर पेन से मार्क लगा होगा। हाई कोर्ट ने इस बारे में चुनाव आयोग को साफ किया कि जीएचएमसी चुनाव में सिर्फ उन्हें ही वैलिड वोट के तौर पर गिना जाय, जिन बैलेट पेपर्स पर वोट का स्वास्तिक वाला निशान होगा। दरअसल हाईकोर्ट ने यह आदेश भाजपा की ओर से दायर चुनाव आयोग के खिलाफ एक याचिका पर दिया। हालांकि इस बारे में राज्य चुनाव आयोग ने हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने का मन बनाया है। साथ ही कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल करने की तैयारी की जा रही है। 

जीएचएमसी चुनाव के दौरान वोट करते समय कथित तौर पर कुछ लोगों ने स्वास्तिक चिह्न पर एतराज जताया और उसकी जगह पेन से मार्क कर दिये। धार्मिक मान्यता के मुताबिक स्वास्तिक चिह्न हिंदू धर्म से जुड़ा है, लिहाजा इस तरह पेन से मार्क करने वाले ज्यादातर मुस्लिम वोटर ही हैं। माना जाता है इनमें अच्छी खासी तादाद AIMIM और टीआरएस सपोर्टर्स की रही। ऐसे में बीजेपी ने तत्काल एक्शन लिया और हाईकोर्ट के आदेश पर बीजेपी को फायदा मिलने की उम्मीद की जा रही है। 

बता दें कि गुरुवार देर शाम को ही राज्य चुनाव आयोग ने पेन से टिक वाले बैलेट पेपर को वैध मानते हुए सर्कुलर जारी किया था। इसके बाद हाई कोर्ट में हाउस मोशन याचिका दाखिल होने पर आयोग के फैसले को निरस्त कर दिया गया। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष संजय बंडी ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करने से पहले ही आयोग से अपना आदेश वापस लेने की मांग की थी। जिसे आयोग ने ठुकरा दिया और मामला कोर्ट में चला गया।

कोर्ट के आदेश के मुताबिक पेन से मार्ग किये गए बैलेट पेपर के वोट को होल्ड पर रखा जाएगा। अगर इनकी संख्या अधिक हो और ये जीत हार का अंतर तय करते हों तो ऐसी सीटों के नतीजे घोषित न किये जाएं।  

शुक्रवार को सुबह सवेरे ही हाई कोर्ट में भाजपा ने हाउस मोशन पिटिशन दाखिल किया था। जिसमें कोर्ट से दरख्वास्त की गई कि चुनाव आयोग की अधिकृत मुहर वाले मतपत्रों को ही वैध ठहराया जाय। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने बीजेपी की दलील को स्वीकार करते हुए चुनाव आयोग को इस बारे में आदेश दिया कि पेन मार्क वैले बैलेट को होल्ड पर रखा जाय।  हाई कोर्ट ने राज्य चुनाव आयोग को तत्काल ये आदेश सभी काउंटिंग सेंटर्स तक पहुंचाने और इसकी तामील का आदेश दिया। हालांकि इस बारे में कोर्ट ने राज्य चुनाव आयोग को पूरी जानकारी के साथ काउंटर एफिडेविट दाखिल करने का भी निर्देश दिया है। जिस पर अगली सुनवाई सोमवार को होगी। 

माना जा रहा है कि चुनाव आयोग आज ही लंच मोशन पिटिशन दायर कर कोर्ट के फैसले को बदलने की गुजारिश कर सकती है। चुनाव आयोग की ओर से तर्क दिया जा रहा है कि सर्कुलर को खारिज करना हाई कोर्ट के अधिकार क्षेत्र के बाहर है। अगर हाईकोर्ट की तरफ से अंतिम तौर पर पेन मार्क वाले बैलेट खारिज हो जाते हैं तो MIM के साथ ही तेरास को भी बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है। 
 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.