दस फीसदी सीटों पर चुनाव नहीं लड़ने पर पार्टियों का चुनाव चिन्ह जप्त

17 Oct, 2020 16:39 IST|के. लक्ष्मण
कॉन्सेप्ट फोटो (फोटो सौ सो मीडिया)

चुनाव चिन्ह के लिए दाखिल की गई जमानत राशि भी जप्त

चुनाव चिन्ह को दोबारा नहीं प्राप्त कर सकते

हैदराबाद : तेलंगाना राज्य चुनाव आयोग ने पिछले चुनाव में 10% सीटों पर चुनाव ना लड़ने के कारण उनको आवंटित किया गया चुनाव चिन्ह जप्त कर लिया गया है। चुनाव आयोग ने जारी एक विज्ञप्ति में बताया कि चुनाव आयोग के नियमों के अनुसार जब कोई पार्टी किसी चुनाव चिन्ह पर 10% सीटों पर चुनाव नहीं लड़ती है तो उसके खिलाफ ऐसी कार्यवाही की जाती है।

आयोग के नियम के अनुसार अगर किसी पार्टी को एक चुनाव चिन्ह आवंटित है तो उस पार्टी को प्रदेश में कम से कम 10% सीटों पर चुनाव लड़ना अनिवार्य होता है। पार्टी ऐसा करने में विफल होती है तो वह उस पार्टी के चुनाव चिन्ह को जप्त कर सकता है। साथ ही चुनाव चिन्ह के लिए दाखिल की गई जमानत राशि भी जप्त हो जाती है।

आयोग का नियम यह भी है कि वह आगामी 5 वर्षों तक उस चुनाव चिन्ह को दोबारा नहीं प्राप्त कर सकते। गत जनवरी में हुए स्थानीय निकाय के चुनाव में जिन पार्टियों ने 10000 सीटों पर चुनाव नहीं लड़ा था, उनका चुनाव चिन्ह छीन लिया गया है। पार्टी की जमानत राशि भी जब की गई है।

इन पार्टियों में जन शंखावरम पार्टी से बैट, तेलंगाना जनसमिति से मैच बॉक्स, बीसी यूनाइटेड फ्रंट से बैट्री टॉर्च, मना तेलंगाना राष्ट्र समैक्या पार्टी से सीटी, प्रजा सेना पार्टी से कप-सासर, समाजवादी फॉरवर्ड ब्लाक समिति से क़ैंची और युवा तेलंगाना पार्टी से गैस सिलेंडर शामिल हैं। आयोग ने इन पार्टियों के चुनाव चिन्ह जब्त किये गये हैं। 
 

Related Tweets
Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.