53 साल से भूमिगत न्यू डेमोक्रेसी के महासचिव चंद्रन्ना गिरफ्तार, नेताओं ने की गिरफ्तारी की निंदा

20 Sep, 2020 11:37 IST|के. राजन्ना
पुलिस की हिरासत में चंद्रन्ना

सीपीआई (एमएल) न्यू डेमोक्रेसी (चंद्रन्ना गुट) को गहरा धक्का

अखिल भारतीय महासचिव ​​पेद्दा चंद्रन्ना और अन्य गिरफ्तार

खम्मम/गुंटूर : सीपीआई (एमएल) न्यू डेमोक्रेसी (चंद्रन्ना गुट) को गहरा धक्का लगा है। गुट के अखिल भारतीय महासचिव पोतुरी आदिनारायणा स्वामी उर्फ ​​पेद्दा चंद्रन्ना, गुंटूर के जिला सचिव ब्रह्मय्या और एक अन्य नेता दुर्गा प्रसाद को शुक्रवार की रात गुंटूर जिले के जंगारेड्डीगुडेम पुलिस ने गिरफ्तार किया। इसके चलते जिले के पार्टी नेताओं में चिंता की लहर छा गई है।

न्यू डेमोक्रसी में एक मात्र नेता चंद्रन्ना ही 53 सालों से भूमिगत है। खबरों के अनुसार, चंद्रन्ना के साथ पार्टी के खम्मम-वारंगल क्षेत्र के सचिव अशोक भी थे। मगर चंद्रन्ना को ही गिरफ्तार करने में पुलिस को सफलता मिली है। अशोक के बारे में पता नहीं चल पाया है।

पार्टी के प्रदेश सचिव सधिनेनी वेंकटेश्वर राव और पार्टी के सदस्य गोवर्धन ने चंद्रन्ना गिरफ्तारी की निंदा की। उन्होंने कहा कि 73 साल के चंद्रन्ना एक क्रांतिकारी योद्धा है। जिन्होंने उत्पीड़ित लोगों के लिए लड़ाई लड़ी है। पार्टी के नेता वाई सत्यम, रमेश, रासुद्दीन, सांबा, गणेश और अन्य ने चंद्रन्ना की गिरफ्तारी के विरोध में इल्लेंदु शहर में धरना दिया।

इसी क्रम में चंद्रन्ना दल (रायलसीमा) के राज्य सहायक सचिव पोटू रंगाराव, पूर्व विधायक गुम्मड्डी नरसय्या, राज्य के नेता मधु, जेडपीटीसी के पूर्व सदस्य चंद्र अरुणा, एनटी नगर सचिव तुपाकुला नागेश्वर राव और जिले के नेता एन राजू ने चंद्रन्ना की गिरफ्तारी की निंदा की है। उन्होंने चंद्रन्ना को तुरंत अदालत में पेश करने की मांग की है। 

आपको बता दें कि सीपीआई (एमएल) का गठन साल 1967 में हुआ था। गोदावरी बेसिन में एक मजबूत क्रांतिकारी आंदोलन के उभरी थी। मगर पार्टी के बीच उठे मतभेद के कारण साल 1984 में पार्टी का विभाजन हो गया था। इससे पहले क्रांतिकारी विचारक चंद्र पल्लारेड्डी (CP Reddy) वैचारिक मतभेद का मुकाबिला करने वालों में रायला सुभाष चंद्र बोस के साथ चंद्रन्ना भी शामिल थे।

विभाजन के बाद जन आंदोलन के रूप में उभरी पार्टी का नेतृत्व चंद्रना, रायला बोस और पैला वासुदेव राव ने किया। सीपी रेड्डी के नेतृत्व में की एक और गुट ने विमोचना ग्रुप का गठन किया। इसमें कुरा राजन्ना, मधु, अमर, सत्तन्ना और प्रसादन्ना ने सीपी का समर्थन किया। इसके बाद यही चंद्रन्ना दलम (पार्टी) हो गईं।

73 साल के चंद्रन्ना लगभग 53 सालों से भूमिगत रहने वाले एक मात्र नेता हैं। उनकी गिरफ्तारी के साथ ही पहले दौर का अब कोई भी नेता भूमिगत नहीं है। केवल तीसरे दौर के नेताओं में वारंगल-खम्मम क्षेत्र के सचिव अशोक एकमात्र भूमिगत हैं। 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.