ऑपरेशन आकर्ष : दुब्बाका में चुनाव से पहले तेजी से बदल रही राजनीति

16 Oct, 2020 16:55 IST|संजय कुमार बिरादर
डिजाइन फोटो

मुत्यमरेड्डी के साथियों पर डोरे डाल रही कांग्रेस

दुब्बाका में 18 नामांकन दाखिल

दुब्बाका में मतदान की तारीख करीब आते देख विभिन्न राजनीतिक दलों के असंतुष्ट नेता व कार्यकर्ता पार्टियां बदलने लगे हैं।  विभिन्न पार्टियों के असंतुष्ट नेताओं को अपनी-अपनी पार्टियों में शामिल करने की कोई कोशिश छोड़ने को तैयार नहीं है। लोगों में जनसमर्थन और लोकप्रिय नेताओं को पार्टी में शामिल करने के लिए उनके गुर्गों के जरिए कोशिश की जा रही है। 


सिद्दीपेट : दुब्बाका उपचुनाव का शड्यूल जारी होने के पहले से सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) में दूसरी पार्टियों के नेताओं के शामिल होने का सिलसिला जारी है।  मुख्य रूप से साल 2008 के चुनाव में कांग्रेस का टिकट पर चुनाव लड़ने वाले मनोहर राव, 2018 के विधानसभा चुनाव में टीजेएस के उम्मीदवार रहे चिन्नम राजकुमार, कांग्रेस उम्मीदवार मद्दुला नागेश्वर रेड्डी मंत्री टी. हरीश राव के समक्ष टीआरएस में शामिल हो चुके हैं।

टीआरएस के वरिष्ठ नेता व वित्तमंत्री टी. हरीश राव दुब्बाका उपचुनाव में पार्टी की उम्मीदवार सुजाता की भारी जीत सुनिश्चित करने की दिशा में काम कर रहे हैं। गौरतलब है कि टीआरएस में संकटमोचक के नाम से मशहूर मंत्री हरीश राव की अच्छी पकड़ है। हरीश राव अब तक जितने निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव प्रचार किया है और पार्टी की जीत की जिम्मेदारी ली थी उनसब में टीआरएस की जीत हुई है। दुब्बाका उपचुनाव में भी पार्टी की जिम्मेदारी मंत्री हरीश राव को सौंपी गई है।

उसी तरह, इन उपचुनाव में कांग्रेस टिकट के लिए आखिर तक प्रयास करने वाले कोमटीरेड्डी वेंकट नरसिम्हा रेड्डी टीआरएस का दामन थाम चुके हैं।
तोगुटा मंडल के चिलुवेरु रामरेड्डी, रविंदर सहित अन्य कांग्रेस व भाजपा के नेता टीआरएस में शामिल हो चुके हैं। उसी तरह, दौलताबाद मंडल के कांग्रेस अध्यक्ष बालराजू, देवेंदर, रायपोलु मंडल के भाजपा महिला मोर्चा की जिला उपाध्यक्ष भागन्नगारी बाल लक्ष्मी सत्तापक्ष में शामिल हो चुकी हैं। इनके अलावा निर्वाचन क्षेत्र के कई पूर्व सरपंच और एमपीटीएसी सत्तारूढ़ पार्टी में शामिल होने जा रहे हैं।

मुत्यमरेड्डी के साथियों पर डोरे डाल रही कांग्रेस

दुब्बाका चुनाव में सत्तापक्ष टीआरएस के साथ विपक्षी दल कांग्रेस भी अपना कैडर बढ़ाने के लिए एक रणनीति के तहत आगे बढ़ रही है। पूर्व मंत्री मुत्यमरेड्डी के निधन की सहानुभूति मिलने की उम्मीद पर उनके बेटे श्रीनिवास रेड्डी को टिकट दिया गया है। मुत्यमरेड्डी के साथ टीआरएसऔर भाजपा में शामिल हुए मुत्यम रेड्डी के गुर्गों पर कांग्रेस पार्टी डोरे डाल रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एन. उत्तम कुमार रेड्डी भी निर्वाचन क्षेत्र में जोर-शोर से चुनाव प्रचार करते हुए टीआरएस सरकार की खामियों को लोगों के समक्ष रखने का प्रयास कर रहे हैं।
 
कांग्रेस पार्टी के प्रदेश मामलों के प्रभारी माणिकम टैगोर सीधे दुब्बाका पहुंच कर मुख्य नेताओं के साथ समीक्षा कर वोटरों की तलाश में जुट गए हैं। इसी के तहत दौलताबाद मंडल से कुछ सरपंच कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। उसी तरह, भाजपा से निलंबित मिरुदोड्डी मंडल के भाजपा से जुड़े किसान मोर्चा के उपाध्यक्ष तोटा कमलाकर रेड्डी को कांग्रेस में खींचने के लिए तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष व सांसद रेवंत रेड्डी ने पहल शुरू कर दी है।

टीआरएस और कांग्रेस पार्टियों के साथ भारतीय जनता पार्टी भी अपना कैडर बढ़ाने में जुट गई है। मुख्य रूप से युवाओं को अपनी ओर आकर्षित करने को अत्यधिक महत्व दिया जा रहा है। बीजेवाईएम, किसान मोर्चा और महिला मोर्चा जैसे संगठनों के कार्यकर्ताओं के जरिए प्रचार तेज कर दिया है। दूसरी तरफ, टीआरएस के असतुष्ट नेताओं को भाजपा में शामिल होने का ऑफर दिया जा रहा है। इसी के तहत तोगुटा मंडल में टीआरएस के कुछ सरपंच भाजपा में शामिल हो रहे हैं।  

यही नहीं, दुब्बाका रूरल चिट्टापुर के एमपीटीसी टीआरएस पार्टी छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं। तेलंगाना के भाजपा अध्यक्ष बंडी संजय भी इस बार पहले के मुकाबले पार्टी उम्मीदवार रघुनंदन राव को अधिक से अधिक वोट हासिल कैसे करें, इसको लेकर रणनीति बनाने के साथ ही उसपर अमल करते दिख रहे हैं।

दुब्बाका में 18 नामांकन दाखिल
दुब्बाका उपचुनाव के मद्देनजर गरुवार को एक ही दिन कुल 18 नामांकन दाखिल किए। चुनाव अधिकारी चेन्नया के मुताबिक कांग्रेस उम्मीदवार चेरुकु श्रीनिवास रेड्डी, शिवसेना के सुदर्शन, इंडियन प्रजा कांग्रेस के जगदीश राज, सुनील (इंडिया प्रजा बंधु पार्टी) आदि शामिल हैं।

Related Tweets
Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.