कपिल देव ने सचिन तेंदुलकर पर उठाए सवाल, कहा- उनमें नहीं थी ये काबिलियत

30 Jul, 2020 15:48 IST|Sakshi
फोटो : सौ, सोशल मीडिया

सचिन का पहला दोहरा शतक 

टेस्ट में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाज 

नई दिल्ली : भारत के पूर्व कप्तान कप्तान कपिल देव ने मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को लेकर बड़ा बयान दिया है। कपिल देव ने इंटरनेशनल क्रिकेट में रनों और शतकों की झड़ी लगाने वाले सचिन तेंदुलकर की बल्लेबाजी पर सवाल उठाए हैं। कपिल ने कहा कि सचिन शतक बनाना तो जानते थे, लेकिन वह उसे दोहरे और तिहरे शतक में बदलने की कला में बहुत माहिर नहीं थे। उन्होंने मौजूदा महिला क्रिकेट टीम के हेड कोच डब्ल्यू वी रमन से इंटरव्यू में यह बातें कहीं।

 शतक लगाने के मामले में 12 वें नंबर पर सचिन

सचिन ने वीरेंद्र सहवाग, जावेद मियांदाद, रिकी पोंटिंग, युनूस खान और मर्वन अट्टापट्टू की तरह टेस्ट में 6 दोहरे शतक लगाए हैं। लेकिन फिर भी वे टेस्ट में सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले में 12 वें नंबर पर हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने सबसे ज्यादा 200 टेस्ट खेलकर इतने दोहरे शतक लगाए हैं। इस लिस्ट में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डॉन ब्रैडमेन 12 दोहरे शतक के साथ पहले नंबर पर हैं। कपिल ने पूर्व भारतीय कप्तान की बल्लेबाजी के इसी पहलू को उठाया है। कपिल देव ने कहा कि सचिन जैसा टैलेंट मैंने किसी में नहीं देखा लेकिन वह निर्दयी बल्लेबाज नहीं थे। 

 सचिन को पांच तिहरे शतक जड़ने चाहिए

कपिल देव ने कहा, 'सचिन शतक बनाना जानते थे, लेकिन उस शतक को दोहरे शतक और तिहरे शतक में बदलना उन्हें नहीं आता था। सचिन तेंदुलकर जैसे बल्लेबाज को अपने करियर में कम से कम तीन से पांच तिहरे शतक जड़ने चाहिए थे। सचिन को 10 दोहरे शतक लगाने चाहिए थे, क्योंकि सचिन तेंदुलकर जैसा बल्लेबाज तेंज गेंदबाजों और स्पिनरों को हर ओवर में बाउंड्री के बाहर मार सकता है।

शतक बनाने के बाद सिंगल लेना शुरू कर देते थे

कपिल ने कहा ने कहा कि सचिन मुंबई से हैं। इसलिए उनकी मानसिकता थी कि जब आप शतक बनाते हैं, तो फिर से नई शुरुआत करते हैं। लेकिन मुझे यह तरीका पसंद नहीं । मैंने कहा था कि आप शानदार बल्लेबाज हैं, आपसे गेंदबाजों को डरना चाहिए। लेकिन सचिन शतक बनाने के बाद सिंगल लेना शुरू कर देते थे। जबकि उन्हें शतक के बाद और भी ज्यादा आक्रामक बल्लेबाजी करनी चाहिए थी।  

सचिन का पहला दोहरा शतक 

सचिन तेंदुलकर ने टेस्ट में सबसे ज्यादा 51 शतक लगाए हैं। उन्हें पहला दोहरा शतक लगाने में 10 साल का वक्त लगा। उन्होंने 1999 में न्यूजीलैंड के खिलाफ हैदराबाद में पहली बार डबल सेंचुरी बनाई थी। तेंदुलकर के 51 शतकों में से सिर्फ 20 ही ऐसे हैं, जिसमें उन्होंने 150 से ज्यादा रन बनाए।

वनडे में पहला दोहरा शतक लगाने वाले बल्लेबाज

सचिन तेंदुलकर ने 2010 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहला दोहरा शतक लगाया। और ऐसा करने वाले वह पहले बल्लेबाज बने। सचिन ने 2013 में संन्यास लिया था। उन्होंने 200 टेस्ट में 54.04 की औसत से 15921 रन बनाए, जबकि 463 वनडे में उन्होंने 44.83 की औसत से 18426 रन बनाए।

भारत के लिए टेस्ट में सबसे ज्यादा 7 दोहरे शतक मौजूदा कप्तान विराट कोहली ने लगाए हैं। वहीं वीरेंद्र सहवाग (2) और करुण नायर (1) ने तिहरे शतक लगाए हैं। 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.