महबूबा मुफ्ती की रिहाई के लिए बेटी इल्तिजा ने उठाया बड़ा कदम, पूछा- और कितना वक्त लगेगा

23 Sep, 2020 16:12 IST|अनूप कुमार मिश्रा
महबूबा मुफ्ती और इल्तिजा मुफ्ती (फाइल फोटो)

महबूबा मुफ्ती हैं नजरबंद

बेटी इल्तिजा मुफ्ती ने सुप्रीम कोर्ट में की अपील

नजरबंद किए गए अन्य लोगों के लिए भी उठाई मांग

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती फरवरी से ही नजरबंद हैं। अब तक उन्हें छोड़ा नहीं गया है, जबकि उनकी बेटी इल्तिजा मुफ्ती अपनी मां की रिहाई के लिए लगातार कोशिशें कर रही हैं। इल्तिजा ने अब महबूबा मुफ्ती की रिहाई के लिए सुप्रीम कोर्ट में अपील की है। उन्होंने कोर्ट में बन्दी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की है। 

इल्तिजा मुफ्ती का आरोप है कि उनकी मां महबूबा को पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत अवैध रूप से हिरासत में लिया गया है। उन्हें फरवरी में पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत हिरासत में लिया गया था। तब से वह हिरासत में ही है।

रिहाई की उठा रही मांग

इल्तिजा मुफ्ती ने पिछले साल अगस्त में जम्मू-कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा समाप्त किये जाने से पहले हिरासत में लिये गये और प्रदेश से बाहर की जेलों में रखे गये लोगों की रिहाई की मांग भी की। इल्तिजा ने हिरासत में बंद अपनी मां के ट्विटर हैंडल पर कई पोस्ट करके ‘असंख्य लोगों की' हिरासत का मुद्दा उठाया। इल्तिजा पिछले साल 20 सितंबर से यह ट्विटर हैंडल चला रही हैं। 

इल्तिजा ने केंद्र सरकार से पूछा सवाल

केंद्र ने पिछले साल पांच अगस्त को तत्कालीन जम्मू कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा समाप्त करके उसे दो केंद्रशासित प्रदेशों जम्मू कश्मीर एवं लद्दाख में बांटने की घोषणा की थी। इल्तिजा ने लिखा, ‘‘मुझसे उन असंख्य लोगों के परिवारों ने संपर्क किया है जिन्हें अवैध तरीके से हिरासत में लेकर जम्मू कश्मीर से बाहर स्थित जेलों में डाल दिया गया। स्पष्टत: हिरासत से हर व्यक्ति को रिहा करने का प्रशासन का दावा सरासर झूठ है। ये वे सच्चे लोग हैं जो अगस्त, 2019 से जेलों में बंद हैं।'' 

अपना पहला पोस्ट केंद्रीय गृह मंत्रालय और जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के ट्विटर हैंडल से टैग करते हुए उन्होंने सवाल किया, ‘‘भारत सरकार को उन्हें रिहा करने में और कितना वक्त लगेगा?'' उन्होंने लिखा, ‘‘उनके परिवारों के पास कानूनी उपचार या उनसे मिलने तक के साधन नहीं हैं।'

राज्यसभा में उठा नजरबंद का मुद्दा

जम्मू-कश्मीर की पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के सांसद मीर मोहम्मद फैयाज ने राज्यसभा में पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को नजरबंद किए जाने का मामला उठाया। फैयाज ने कहा, पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा के साथ मिलकर एक मिलीजुली सरकार का नेतृत्व किया है। और अब उन्हें देशद्रोही (एंटी-नेशनल) कहा जा रहा है। उन्होंने कहा कि महबूबा मुफ्ती एमएलए, एमपी और मुख्यमंत्री तक रह चुकी हैं। उनके पिता देश के गृह मंत्री थे।

फैयाज ने मांग की कि महबूबा मुफ्ती को तुरंत रिहा किया जाय। पीडीपी सांसद ने कहा, राज्य में एक डर का माहौल है। अगर आप कुछ बोलेंगे तो जेल जाएंगे। बता दें कि जम्मू कश्मीर सरकार ने 31 जुलाई को उनका डिटेन्शन पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत और तीन महीने के लिए बढ़ा दिया था। उन्हें पिछले साल उस समय गिरफ्तार किया गया था जब जम्मू-कश्मीर से केंद्र सरकार ने अनुच्छेद 370 हटा दिया था।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.