हाथरस कांड पर सबसे बड़ा खुलासा : चश्मदीद का दावा, चीख रही थी लड़की और पास खड़े देख रहे थे मां-भाई

16 Oct, 2020 08:40 IST|अनूप कुमार मिश्रा
चिता से अस्थियां निकालते परिजन

हाथरस कांड में चश्मदीद का दावा

पीड़िता के पास खड़े थे मां और भाई

पीड़िता के गले पर थे गंभीर चोट के निशान

हाथरस : उत्तर प्रदेश के हाथरस में युवती के साथ हुई दरिंदगी के मामले की जांच सीबीआई कर रही है। रोजाना ऐसे खुलासे हो रहे हैं, जो केस को उलझाते जा रहे हैं। मौका-ए-वारदात पर पहुंचने वाले शख्स ने दावा किया है कि जब खेत में पीड़िता दर्द से कराह रही थी तो उसकी मां और उसका बड़ा भाई वहीं खड़े थे।

एक न्यूज चैनल पर चश्मदीद ने खुलासा किया कि 14 सितंबर यानी वारदात वाले दिन वह खेत में काम कर रहा था। पास में लड़की के चीखने की आवाज आ रही थी। जिस खेद में लड़की दर्द से कराह रही थी वह चश्मदीद का ही खेत था। 

चश्मदीद का दावा है कि जब वह लड़की के कराहने की आवाज सुनकर वहां पहुंचा तो देखा कि लड़की की मां और उसका बड़ा भाई वहीं खड़े थे। यह सब देखकर वह घबरा गया। लड़की के गले पर गहरी चोट थी। वह पास के ही खेत में काम कर रहे और लोगों को बुलाने गया। लौटकर जब वह वापस आया तो देखा कि लड़की का भाई वहां से जा चुका था, जबकि उसकी मां वहीं खड़ी थी।

लड़की की मां ने चश्मदीद से कहा कि मेरे बेटे को घर से बुला लाओ। जब वो लड़की के घर गया और लड़की के भाई को कहा कि चलो तुम्हारी बहन की हालत खराब है, तो लड़की के भाई ने कहा, जब 5-6 लोग आ जाएंगे तब मैं आऊंगा। इसके बाद चश्मदीद ने गांव जाकर अन्य लोगों को घटना के बारे में बताया और वहां भीड़ इकट्ठा होना शुरू हो गई।

अस्पताल का सीसीटीवी फुटेज गायब

दुष्कर्म और हत्या मामले की सीबीआई जांच की शुरुआत में ही बाधा आ गई। जांचकर्ताओं ने पाया कि जिस दिन पीड़िता को अस्पताल लाया गया था, उस दिन यानी 14 सितंबर की अस्पताल की सीसीटीवी फुटेज गायब है। हाथरस के जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक इंद्र वीर सिंह ने कहा कि अगर पुलिस ने उनसे कहा होता तो वह अस्पताल फुटेज को सुरक्षित रख लेते।

उन्होंने कहा, "पुराने फुटेज को हर सात दिन में डिलीट कर दिया जाता है और नए फुटेज को इस पर रिकॉर्ड कर लिया जाता है। जब तक विशेष रूप से कहा नहीं जाता है, हम बैक-अप नहीं रखते हैं।" पीड़िता को घटना के बाद इलाज के लिए सबसे पहले जिला अस्पताल ले जाया गया था और फुटेज में उसकी हालत के बारे में महत्वपूर्ण सबूत मिलने की संभावना थी, कि कथित तौर पर हमले के बाद उसकी हालत क्या थी। डॉक्टरों के बयान दर्ज करने और सबूतों की जांच करने के लिए सीबीआई की टीम अस्पताल गई थी।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.