Covid-19 : कोरोना की रफ्तार से सहमा देश, एक दिन में मिले 66 हजार से ज्यादा मरीज

14 Aug, 2020 10:00 IST|अनूप कुमार मिश्रा
कॉन्सेप्ट इमेज

देश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 24,59,613 है

17,50,636 मरीज बिल्कुल ठीक होकर घर जा चुके हैं

गुरुवार को  66,037 नए मामले सामने आए

नई दिल्ली : कोरोना वायरस की रफ्तार भारत में थमने का नाम नहीं ले रही है। कोविड-19 से संक्रमित मरीजों की संख्या रोजाना नए रिकॉर्ड बना रही है। गुरुवार को देश में सबसे ज्यादा एक दिन में 66 हजार मरीज मिले हैं। वहीं  एक हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। देश में जिस तरह कोरोना की रफ्तार देखी जा रही है, वह काफी चिंताजनक है। 

आंकड़ों पर नजर डालें तो देश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 24,59,613 है। इनमें से 17,50,636 मरीज बिल्कुल ठीक हो चुके हैं, जबकि एक्टिव केस की संख्या 6,60,833 है। गुरुवार को कोरोना के 66,037 नए मामले मिले थे। इससे पहले 8 अगस्त को सबसे ज्यादा 65,410 केस सामने आए थे। दूसरी बार कोविड-19 से मौतों का आंकड़ा 1,000 से पार गया। इससे पहले 9 अगस्त को 1,007 लोगों की मौत हुई थी।

कब लॉन्च होगी वैक्सीन

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस बीच देश में वैक्सीन को लॉन्च करने की कवायद भी तेज हो गई है। भारत में फिलहाल दो कंपनियों की वैक्सीन रेस में सबसे आगे बताई जा रही हैं। इनमें भारत बायोटेक और जायडस कैडिला शामिल हैं। 

इसके अलावा ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्रा जेनेका की संभावित वैक्सीन पर भारत के सेरम इंस्टीट्यूट ने दांव लगाया है। इन संभावित वैक्सीनों पर चर्चा के लिए आज सरकार का एक एक्सपर्ट पैनल बैठक करेगा। इसकी अध्यक्षता नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल करेंगे। बैठक में वैक्सीन के उत्पादन और उन्हें लोगों तक पहुंचाने के तरीकों पर चर्चा होगी। बताया गया है कि बैठक में रूस द्वारा तैयार की गई वैक्सीन स्पूतनिक-वी पर भी चर्चा हो सकती है।

रूस के कोविड-19 के टीके पर संदेह 

रूस के कोविड-19 का टीका विकसित करने पर संदेह को लेकर भारत समेत दुनिया के कई वैज्ञानिकों का कहना है कि समय की कमी को देखते हुए इसका समुचित ढंग से परीक्षण नहीं किया गया है और इसकी प्रभावशीलता साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हो सकते हैं।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को घोषणा की थी कि उनके देश ने कोरोना वायरस के खिलाफ दुनिया का पहला टीका विकसित कर लिया है जो कोविड-19 से निपटने में बहुत प्रभावी ढंग से काम करता है । इसके साथ ही उन्होंने खुलासा किया था कि उनकी बेटियों में से एक को यह टीका पहले ही दिया जा चुका है। इस देश को अक्तूबर तक बड़े पैमाने पर टीके का निर्माण शुरू होने की उम्मीद है और आवश्यक कर्मचारियों को पहली खुराक देने की योजना बना रहा है। हालांकि विज्ञान समुदाय के कई लोग इससे प्रभावित नहीं हैं।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.