बलिया गोलीकांड : पुलिस की गिरफ्त से दूर मुख्य आरोपी ने जारी किया वीडियो, बताया क्या हुआ था उस दिन

17 Oct, 2020 14:11 IST|अनूप कुमार मिश्रा
गोलीकांड का मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह

उत्तर प्रदेश के बलिया में गोलीकांड

मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह पर 25 हजार रूपये का इनाम घोषित

पुलिस की गिरफ्त से दूर धीरेंद्र सिंह ने वीडियो जारी करके रखी बात

बलिया : उत्तर प्रदेश के बलिया में हुए गोलीकांड का मुख्य आरोपी घटना के दो दिन बाद भी फरार है। पुलिस ने मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह पर 25 हजार रूपये का इनाम घोषित किया है। पुलिस की पहुंच से दूर मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह ने एक वीडियो जारी करके सनसनी मचा दी है। वीडियो में उसने खुद की बेगुनाई पेश करते हुए पूरे मामले में जांच की बात कही है।

सोशल मीडिया के जरिए मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह ने वीडियो जारी किया है। वीडियो में दावा किया गया है कि उसने कोई गोली नहीं चलाई, उसे फंसाया जा रहा है। धीरेंद्र ने पूरे मामले की जांच की मांग की है। उसने कहा कि मामले की उचित जांच होनी चाहिए।

धीरेंद्र ने इस पूरी घटना के पीछे पुलिस और प्रशासन को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि 15 अक्टूबर को राशन की दुकानों का आवंटन होना था और इसी वजह से कई अधिकारी मौके पर आवंटन प्रक्रिया के लिए आए हुए थे। इस मामले में एसडीएम और बीडीओ से मुलाकात की थी और इस बात की जानकारी दी थी कि वहां काफी गड़बड़ी की जा रही है।

आरोपी के बचाव में भाजपा विधायक 

बलिया से भाजपा के विधायक सुरेंद्र सिंह ने पंचायत बैठक के दौरान गोलीबारी करने वाले शख्स धीरेंद्र सिंह का बचाव किया है। घटना में 1 व्यक्ति की मौत हो गई थी। घटना गुरुवार शाम की है। सुरेंद्र सिंह ने पत्रकारों से कहा, "आरोपी को पीटा गया और उसके पिता को भी पीटा गया। अगर कोई किसी के परिवार पर हमला करता है, तो जाहिर है कि इस कृत्य पर प्रतिक्रिया होगी। धीरेंद्र सिंह मेरे करीबी सहयोगी रहे हैं और जो हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण है।"

विधायक ने कहा कि आरोपियों के परिवार के साथ मारपीट करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए। इस बीच, बलिया गोलीबारी कांड के सिलसिले में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार किए गए लोगों में मुख्य आरोपी का भाई भी शामिल है और उसकी पहचान देवेंद्र प्रताप सिंह के रूप में हुई है। पुलिस ने एफआईआर में आठ लोगों को नामजद किया है जबकि अन्य 15-20 लोगों को भी शिकायत में सूचीबद्ध किया गया है।

क्या हुआ था उस दिन

यह घटना बलिया में गुरुवार को पंचायत भवन में एक बैठक के दौरान हुई। राशन की दुकानों के चयन के लिए बैठक बुलाई गई थी, जो सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट द्वारा स्वयं-सहायता समूहों के सदस्यों के बीच विवाद के कारण रद्द कर दी गई थीं, जो वहां एकत्र हुए थे। जब बैठक चल रही थी, 46 वर्षीय जय प्रकाश पाल को गोली मार दी गई। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना के समय रेवती क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में मौके पर मौजूद सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम), सर्कल अधिकारी और अन्य सभी पुलिसकर्मियों को निलंबित करने का आदेश दिया था।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.