NHAI ने आंध्र प्रदेश में महाप्रबंधक को निलंबित किया, दी गई थी चेतावनी

26 Jun, 2020 19:34 IST|Sakshi
नितीन गडकरी और एनएचआईए

दो परियोजनाओं के रखरखाव के अनुबंध को बढ़ा दिया

कामकाज की पारदर्शिता को बनाये रखने के लिए कड़ी चेतावनी दी


नई दिल्ली : भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने वित्तीय देनदारी की स्थिति पैदा करने के कारण आंध्र प्रदेश स्थित अपने महाप्रबंधक को निलंबित कर दिया है। एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। अधिकारी ने कहा कि एनएचएआई के आंध्र प्रदेश के महाप्रबंधक ए एस राव ने राज्य की दो राजमार्ग परियोजनाओं में प्राधिकरण के ऊपर वित्तीय देनदारी की स्थिति बना दी थी। इस कारण एनएचएआई ने राव को निलंबित कर दिया। 

अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त के साथ कहा कि राव ने सक्षम प्राधिकरण के अनुमोदन के बिना कथित तौर पर दो परियोजनाओं के रखरखाव के अनुबंध को बढ़ा दिया। ये दो परियोजनाएं राष्ट्रीय राजमार्ग 16 (पुराना राष्ट्रीय राजमार्ग पांच) के "इच्छापुरम- श्रीकाकुलम- आनंदपुरम खंड' और "गुंडुग्लानु- कोवूर परियोजना' हैं। उन्होंने कहा,"यह ध्यान में आया है कि एएस राव ने सक्षम प्राधिकारी की पूर्व स्वीकृति के बिना आंध्र प्रदेश में रखरखाव कार्यों में एनएचएआई पर वित्तीय देनदारी बना दी है। प्रारंभिक कार्रवाई के रूप में राव को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।''

अधिकारी ने कहा कि प्राधिकरण द्वारा यह सुनिश्चित करने के लिये निर्णय लिया गया है कि मामूली वित्तीय अनियमितता भी बर्दाश्त नहीं की जा सकती है। कार्रवाई ने एनएचएआई के अधिकारियों के बीच हर समय वित्तीय अनुशासन बनाये रखने और एनएचएआई के कामकाज की पारदर्शिता को बनाये रखने के लिए कड़ी चेतावनी दी है। राव ने इस बारे में संपर्क करने पर मुद्दे पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। 

इसे भी पढ़ें :

15 जुलाई तक अंतरराष्ट्रीय उड़ान बंद रहेंगी, सरकार ने जारी किए निर्देश

एनएचएआई के प्रवक्ता ने भी इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने हाल ही में कहा था कि सरकार एनएचएआई में सुधार लाने के लिये कदम उठा रही है और प्राधिकरण में बड़े पैमाने पर सुधारों की जरूरत है। उन्होंने कहा था, "हम एनएचएआई के सुधार के लिये कदम उठा रहे हैं। प्राधिकरण में बड़े सुधार की जरूरत है।"

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.