इस साल नहीं सजेगा लालबाग के राजा का दरबार, कोरोना ने तोड़ी 86 साल पुरानी परंपरा

1 Jul, 2020 15:54 IST|Sakshi
लालबाग स्थित भगवान गणेश की प्रतिमा (फाइल फोटो)

गणेशोत्सव में इस बार नहीं लगाई जाएगी विशाल मूर्तियां

लालबाग में 3-4 की मूर्ति रखकर होगी पूजा-अर्चना

 गणेशोत्सव को 'आरोग्योत्सव' के रूप में मनाएंगे लोग

मुंबई : कोरोना वायरस के कहर से आम इंसान की जिंदगी तो प्रभावित हुई ही है, भगवान से जुड़ी सदियों पुरानी परंपरा भी टूटती नजर आ रही है। कोविड-19 महामारी का असर इस बार गणेशोत्सव पर भी नजर आ रहा है। पूरे देश में प्रसिद्ध मुंबई के लालबाग के राजा का पंडाल इस बार नहीं सजेगा। लालबाग के राजा के लिए अब तक के 86 साल के इतिहास में पहली बार 11 दिवसीय गणेशोत्सव के लिए विशाल मूर्ति नहीं आएगी। 

इस पारंपरिक 'पूजा' और अन्य कार्यक्रमों के लिए करीब 3-4 फीट की एक छोटी मूर्ति ही स्थापित की जाएगी। बता दें कि गणेशोत्सव का पर्व पिछले 127 साल से आयोजित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा कोविड-19 महामारी के मद्देनजर गणेशोत्सव 2020 को अधिक श्रद्धा और कम धूमधाम से मनाने की अपील के चलते यह निर्णय लिया गया है।

लालबागचा राजा सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल के सचिव सुधीर साल्वी ने संवाददाताओं से कहा, "इस साल हम गणेशोत्सव को 'आरोग्योत्सव' के रूप में मनाएंगे। इस दौरान ब्लड और प्लाज्मा दान करने के लिए कैंप लगाएंगे। साथ ही कोरोना बचाव, भारत-चीन सीमा पर शहीद हुए जवानों और महाराष्ट्र में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जिंदगी खोने वाले पुलिसकर्मियों के परिवारों के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में 25 लाख रुपए दान करेंगे।"

बता दें कि उद्धव ठाकरे की अपील के कारण राज्य के सभी गणेशोत्सव मंडलों ने स्वेच्छा से यह निर्णय लिया है कि इस साल गणेश प्रतिमा की ऊंचाई 4 फीट से कम ही रहेगी। यह निर्णय विशेषकर उन मंडलों द्वारा लिया गया है जो विशालकाय मूर्तियों के लिए प्रसिद्ध हैं।

लिहाजा इस साल 22 अगस्त से शुरू होने जा रहे गणेशोत्सव समारोह में मुंबई के लालबाग समेत पुणे और अन्य शहरों में हमेशा की तरह 15 फीट से अधिक वाली विशालयकाय मूर्तियां नजर नहीं आएंगी। साथ ही ज्यादातर मंडल भक्तों के लिए ऑनलाइन आरती, पूजा और दर्शनों की व्यवस्था करेंगे।

-आईएएनएस

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.