IPL : अब स्पॉन्सरशिप पर मचा बवाल, जानिए क्यों हो रहा BCCI के इस फैसले का विरोध ?

3 Aug, 2020 12:26 IST|Sakshi
कॉन्सेप्ट फोटो (सौजन्य सोशल मीडिया)

IPL स्पॉन्सरशिप पर बवाल

BCCI के फैसले का विरोध

नई दिल्ली : आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल की मीटिंग में आखिरकार फैसला हो गया । रविवार को हुई बैठक में IPL के लिए भारत सरकार ने अनुमति दे दी है। IPL सीजन 13 का फाइनल मैच 10 नवंबर को खेला जाएगा।

 रविवार को हुई गवर्निंग काउंसिल की बैठक में IPL के आयोजन को लेकर हरी झंडी मिल गई। BCCI के अनुसार  IPL के लिए भारत सरकार ने अपनी स्वीकृति प्रदान कर दी है। IPL मैचों के लिए फाइनल शेड्यूल तय हो गया है। अब यह आयोजन 19 सितंबर से लेकर10 नवंबर तक UAE में होगा। लेकिन अब IPL की स्पॉन्सरशिप को लेकर विरोध शुरू हो गया है।

 IPL के सभी प्रायोजक पहले की ही तरह तैयार हैं, जिसका अर्थ ये हुआ कि IPL के मुख्य प्रायोजक के तौर पर चीनी प्रायोजक वीवो ही रहने वाला है। BCCI के इस ऐलान के बाद  IPL के स्पॉन्सर 'वीवो' पर बवाल शुरू हो गया। बतादें वीवो चाइनीज मोबाइल कंपनी है, और इन दिनों देश में चीनी सामान का विरोध किया जा रहा है। 

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने इस स्पॉन्सरशिप पर सवाल उठाए हैं। उन्होने कहा है कि जब देश में पड़ोसी देश चीन के लद्दाख में घुसपैठ की करतूत के मद्देनजर चीनी सामानों का बहिष्कार कर हैं, ऐसे में  IPL अपने सभी प्रायोजकों को बनाए रखने की अनुमति कैसे दे सकता है।  उमर अब्दुल्ला ने कहा, 'BCCI  या IPL गवर्निंग काउंसिल ने बड़े चीनी कंपनियों समेत सभी प्रायोजकों (स्पॉन्सर) को बनाए रखने का फैसला की कड़ी आलोचना की है। 

वहीं  स्वदेशी जागरण मंच  भी BCCI के फैसले का विरोध में उतर आया है। स्वदेशी जागरण मंच ने भी इस फैसले का कड़ा विरोध किया है। मंच के राष्ट्रीय सह-संयोजक अश्वनी महाजन ने कहा है कि IPL एक व्यवसाय है और इस बिजनेस को चला रहे लोग देश के प्रति असंवेदनशील हैं, उन्हें देश की सुरक्षा की जरा भी परवाहा नहीं है। उन्होने कहा कि जिसका पूरी दुनिया बहिष्कार कर रही है, उसे प्रोत्साहन दिया जा रहा है। उन्होने कहा है कि लोगों को  IPL का बहिष्कार करना चाहिए। 

बीसीसीआई के सूत्रों से जानकारी मिली IPL के कैलेंडर में कोई बदलाव नहीं किया जा रह है, तो वहीं स्पॉन्सरशिप भी पूर्व की तरह बरकरार है। 
 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.