असम के पूर्व CM तरूण गोगोई का हुआ निधन, इंदिरा गांधी के थे बेहद करीबी

23 Nov, 2020 19:12 IST|Sakshi
तरूण गोगोई।

गुवाहाटी : कांग्रेस (Congress) नेता और तीन बार के असम के मुख्यमंत्री तरूण गोगोई ( Tarun Gogoi) का 86 साल की उम्र में निधन हो गया है। असम ( Assam) के पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई की स्वास्थ्य स्थिति सोमवार की सुबह और बिगड़ गई। उनकी देख भाल कर रहे डॉक्टरों ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री की हालत ‘‘बेहद, बेहद नाजुक’’ है। बता दें कि बीते कई दिनों से गोगोई का गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के इंटेंसिव केयर यूनिट (आईसीयू) में भर्ती कराया गया था।  उनकी देखभाल नौ डॉक्टरों की एक टीम कर रही है.

राजकीय सम्मान के साथ होगा अंतिम संस्कार
गोगोई की मौत की घोषणा करते हुए, सरमा ने मीडिया को बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री का पार्थिव शरीर सोमवार की रात गुवाहाटी के प्रसिद्ध श्रीमंत शंकरदेव कलाक्षेत्र में रखा जाएगा। अंतिम संस्कार उनके परिवार के साथ परामर्श के बाद मंगलवार या बुधवार को पूरे राजकीय सम्मान के साथ होगा।

सांस लेने में थी गोगोई को तकलीफ
सोमवार की सुबह उनकी स्वास्थ्य स्थिति बिगड़ गई थी। कोरोना संक्रमित 86 वर्षीय कांग्रेस नेता का इलाज गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज (जीएमसीएच) में इलाज चल रहा था। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल तरुण गोगोई के खराब स्वास्थ्य को देखते हुए डिब्रूगढ़ के सभी कार्यक्रम रद्द कर गुवाहाटी लौट आए थे। उन्होंने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।
उन्हें नाजुक हालत के बाद दो नवंबर को जीएमसीएच में भर्ती कराया गया था और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था।जीएमसीएच के डॉक्टरों ने कहा कि गोगोई की स्वास्थ्य स्थिति धीरे-धीरे बिगड़ रही थी और उन्हें सांस लेने में समस्या आ रही थी, जिसके बाद डॉक्टरों ने उन्हें एक मशीन चालित वेंटिलेटर पर रखा था।

डॉक्टरों की सारी कोशिश नाकाम
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि डॉक्टरों ने विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों से उनके अंगों को पुनर्जीवित करने की कोशिश की, लेकिन सभी प्रयास विफल रहे। उन्होंने कहा कि दिल्ली में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के विशेषज्ञों के साथ जीएमसीएच के डॉक्टर लगातार संपर्क में थे। उनकी गंभीर स्थिति के कारण, गोगोई को चिकित्सा के लिए राज्य के बाहर स्थानांतरित नहीं किया जा सका।

25 अक्टूबर को मिली थी हॉस्पिटल से छुट्टी
गोगोई को कोविड-19 से उबरने के बाद 25 अक्टूबर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी। उन्हें प्लाज्मा थेरेपी दी गई और बाद में उनकी हालत स्थिर हो गई थी।गोगोई 25 अगस्त को कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए थे और अगले दिन उन्हें जीएमसीएच में भर्ती कराया गया था। गोगोई जोरहाट जिले के तितबर विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते थे।

तीन बार रह चुके हैं असम के सीएम, 6 बार रहे सांसद
तरुण गोगोई असम के तीन बार सीएम रह चुके हैं। वे साल 2001 से 2016 तक असम के मुख्यमंत्री रहे। गोगोई के पॉलिटिकल करियर की शुरुआत साल 1968 में शुरू हुआ। दरअसल  जोरहाट नगर बोर्ड का सदस्य नियुक्त किया गया। उस वक्त गोगोई गिनती इंदिरा गांधी के  बेहद करीबी नेताओं में होती थी। इसके बाद साल 1971 में, गोगोई इंदिरा के कार्यकाल के दौरान पहली बार लोक सभा के लिए चुने गए थे। तरुण गोगोई ने टाटाबार विधानसभा से 2001 के असम विधानसभा चुनाव जीते और असम के मुख्यमंत्री बने।

2016 में, कांग्रेस के बीजेपी के खिलाफ हार का सामना करने के बाद उनका कार्यकाल खत्म हो गया। गोगोई ने लोकसभा से सांसद सदस्य (एमपी) के रूप में छह बार कार्यकाल पूरा किया।1971 से 1985 तक, गोगोई ने जोरहाट निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। बाद में उन्हें (1991-2002) कालीबोर से चुना गया।
 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.