सरकार और किसानों के बीच 7 घंटे की मैराथन बैठक फिर बेनतीजा

3 Dec, 2020 12:00 IST|मो. जहांगीर आलम
फोटो : सौ. सोशल मीडिया

किसानों ने भेजी आपत्तियों की लिस्ट

एमएसपी पर अड़े दोनों ही पक्ष

नई दिल्ली :  नए कृषि कानून ( Farms Law 2020) के विरोध में देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में किसानों का प्रदर्शन ( Protest) जारी है। किसान संगठनों की मांग है कि इन कानूनों (Farms Law 2020) को जल्द से जल्द वापस लिया जाए। इसे लेकर सरकार और किसान संगठनों के बीच विज्ञान भवन में लगभग 7 घंटे से चल रही मैराथन बैठक आज भी बेनतीजा ही खत्म हो गई। किसान और सरकार के बीच अगली बैठक 5 दिसंबर यानी शनिवार को होगी।

मीटिंग में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने साफ शब्दों में कह दिया है कि MSP में कोई परिवर्तन नहीं होगा।इसमें कोई बदलाव नहीं होगा। एक्ट के प्रावधानों में किसानों को सुरक्षा दी गई है। उनकी जमीन की लिखा-पढ़ी कोई नहीं कर सकता । सूत्रों ने जानकारी दी है कि किसानों से बाचतीत के दौरान वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने गृह मंत्री अमित शाह से दो बार फोन पर बात की।

हालांकि, किसान अपनी मांग पर अड़े रहे। उन्होंने कहा कि कानून खत्म करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाया जाए। मसला इकलौते MSP का नहीं, बल्कि कानून पूरी तरह वापस लेने का है। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि केवल एक नहीं, बल्कि कई मसलों पर बातचीत होनी चाहिए।

किसानों ने सरकार के सामने जो ड्राफ्ट भेजा है, उसमें इन मुद्दों को उठाया है

- तीनों कृषि कानून वापस लिए जाएं

- वायु प्रदूषण के कानून में बदलाव वापस हो

- बिजली बिल के कानून में बदलाव है, वो गलत है

- MSP पर लिखित में भरोसा दे

- कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग पर किसानों को ऐतराज 

- डीजल की कीमत को आधा किया जाए

एमएसपी पर अड़े दोनों ही पक्ष

किसान संगठनों ने दो टूक कह दिया कि सरकार को ये कानून वापस लेने ही होंगे। दूसरी ओर सरकार भी किसानों की शिकायतें दूर करने के लिए तैयार है, लेकिन कानून पर टस से मस नहीं होना चाहती है। ऐसे में स्थिति गंभीर होती जा रही है, क्योंकि किसानों का कहना है कि अगर उनकी बात नहीं मानी गई तो फिर आंदोलन आक्रामक हो जाएगा।

इस बीच अब से कुछ देर में पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और गृह मंत्री अमित शाह की मुलाकात होनी है। इस बैठक में किसान आंदोलन पर विस्तार से चर्चा हो सकती है। 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.