कोरोना काल में हरित दिवाली मनाने पर जोर, दिल्ली में सिसोदिया की अपील

25 Oct, 2020 20:32 IST|Sakshi

पटाखा और प्रदूषण मुक्त हरित दिवाली का लें सकल्प

दिल्ली में रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ' महाअभियान शुरू

दिल्ली सरकार ने सभी लोगों से की योगदान देने की अपील

नई दिल्ली : दशहरा के अवसर पर दिल्ली सरकार ने लोगों से पटाखा और प्रदूषण मुक्त दिवाली मनाने की अपील की है। डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि "विजय दशमी पर हम बुराइयों को हराकर अच्छाई की विजय चाहते हैं। आज हमें संकल्प लेना चाहिए कि महामारी और बुरी सोच की हार हो, सबके स्वास्थ्य और अच्छे कर्म की जीत हो, सत्य की जीत हो और असत्य की हार हो।"

कम से कम फैलाएं प्रदूषण
दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के कहा कि दशहरा सिर्फ प्रतीकात्मक नहीं, बल्कि आज की बुराइयों के खिलाफ लड़ाई का महापर्व है, इसलिए हमें आज की बुराई प्रदूषण और कोरोना को हराने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने कहा, "हमें इस बार पटाखा मुक्त और प्रदूषण मुक्त हरित दिवाली का भी संकल्प लेना होगा। दैनिक जीवन में हम बाइक, कार तथा अन्य माध्यमों से प्रदूषण करते हैं, लेकिन अब संकल्प लेना होगा कि हम कम-से-कम प्रदूषण फैलाएं।"

आपको बता दें कि दिल्ली सरकार ने वाहन प्रदूषण को कम करने के उद्देश्य से 'रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ' महाअभियान शुरू किया है। इस अभियान के तहत दिल्ली के 100 प्रमुख चौक-चौराहों पर तैनात पर्यावरण मॉर्शल प्ले कॉर्ड के जरिए वाहन चालकों को जागरूक करेंगे। 

इसे भी पढ़ें : 

दशहरा 2020: मंदोदरी को मानते हैं बेटी, इसलिए मध्य प्रदेश के मंदसौर में लोग करते हैं रावण की पूजा

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय भी आईटीओ पर अभियान की शुरूआत कर चुके हैं। उन्होंने दिल्ली के दो करोड़ निवासियों से अपना योगदान देने का आह्वान किया। उन्होंने कहा, "अभी तक प्रदूषण के खिलाफ युद्ध में दिल्ली सरकार और विभिन्न एजेंसियां शामिल थीं, लेकिन आज से इस लड़ाई में दिल्ली के दो करोड़ लोगों को शामिल होने का आह्वान किया जा रहा है। जब सरकार और समाज दोनों मिल कर लड़ेगा, तभी हम प्रदूषण के खिलाफ लड़ाई को जीत सकेंगे।"

फिर बढ़ा प्रदूषण का स्तर

दिल्ली सरकार की ओर से सभी सांसदों, विधायकों, पार्षदों, राजनीतिक दलों, एनजीओ और सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों से भी इस अभियान में योगदान देने का आह्वान किया जा रहा है। सर्दियों का मौसम आते ही दिल्ली में एक बार फिर प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है। खासतौर पर पीएम 10 जैसे हेवी पार्टिकल्स खतरनाक स्तर तक पहुंच सकते हैं। इस वायु प्रदूषण को रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब और राजस्थान की सरकारों से ईंट-भट्टों, थर्मल पावर स्टेशनों और पराली की समस्या को नियंत्रित करने का आग्रह किया है।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.