दिल्ली: कोरोना के बढ़ते मामलों को संक्रमण की तीसरी लहर बता रहे लोग, जानिए AIIMS निदेशक ने क्या कहा?

30 Oct, 2020 18:01 IST|Sakshi
रणदीप गुलेरिया

युवा वायरस को लेकर लापरवाह हैं

अगले कुछ हफ्ते सतर्क रहने की जरूरत

दोबारा भी हो सकता है कोरोना का संक्रमण

नई दिल्ली: कुछ समय तक कोरोना के घटते मामलों के बीच एक बार फिर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। ऐसे हालातों को देखते हुए देश में यह चर्चा आम हो गई है कि यहां कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर तेज हो गई है।

हालांकि इस बाबत एम्स के निदेशक डॉक्टर गुलेरिया ने साफ इनकार करते हुए इसे कोरोना की दूसरी लहर ही बताया। उन्होंने कहा कि यह कोरोना की दूसरी लहर ही है, जो फिर से तेज हो गई है। उन्होंने इसके पीछे सावधानी बरतने में ढिलाई का भी उल्लेख किया और कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ठीक से नहीं किया गया, मास्क लगाने में भी ढिलाई बरती गई, जिन वजहों से कोरोना संक्रमण के मामलों में फिर से इजाफा देखने को​ मिल रहा है। 

हालांकि डॉक्टर गुलेरिया ने इसके लिए दिल्ली के मौसम और प्रदूषण को भी जिम्मेदार बताते हुए कहा कि प्रदूषण के कारण वायरस ज्यादा देर तक हवा में रहता है। प्रदूषण और वायरस, दोनों ही फेफड़े को प्रभावित करते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस अभी खत्म नहीं हुआ। यूरोप और अन्य देशों का उदाहरण देते हुए डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि मास्क जरूर लगाएं। जरूरी काम न हो तो बाहर न जाएं। डॉक्टर गुलेरिया ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि हम सावधानी नहीं बरतेंगे तो और भी ज्यादा मामले सामने आएंगे।

युवा वायरस को लेकर लापरवाह हैं

एम्स के निदेशक ने कहा कि युवा वायरस को लेकर लापरवाह हैं। उन्हें लगता है कि माइल्ड इंफेक्शन होगा और हमें कुछ करने की जरूरत नहीं है। इस धारणा को गलत बताते हुए डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि युवा वायरस को घर ले जा रहे हैं और बुजुर्ग प्रभावित हो रहे हैं।

डॉक्टर गुलेरिया ने वैक्सीन आने की उम्मीद व्यक्त करते हुए कहा कि कुछ नई दवाएं भी आएं, जो इस वायरस को अच्छे से कंट्रोल कर पाएं। उन्होंने कहा कि वैक्सीन आने से कोरोना के मामले काफी कम होंगे। फ्लू शॉट को लेकर उन्होंने कहा कि इन्फ्लूएंजा और फ्लू की वैक्सीन लगवाने से कोरोना से बचाव हो सकेगा, यह गलत धारणा है। इन्फ्लूएंजा से बचाव के लिए ये वैक्सीन कारगर है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए हाथ धोना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन और मास्क लगाना जरूरी है।

अगले कुछ हफ्ते सतर्क रहने की जरूरत

प्रदूषण और कोरोना की दोहरी चुनौती को लेकर एम्स के निदेशक ने कहा कि जब तक बेहद जरूरी न हो, बाहर न जाएं। जाना जरूरी भी हो तो मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए धूप निकलने के बाद जाएं। उन्होंने कहा कि कोरोना से संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं। दिवाली के बाद तक मामले कम होते रहे तो कह सकेंगे कि पीक खत्म हो गया हैं हमें आने वाले कुछ हफ्ते तक अधिक सतर्क रहने की जरूरत है।

दोबारा भी हो सकता है कोरोना का संक्रमण

दिवाली और छठ पूजा को लेकर डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि लोगों से वर्चुअली मिलें, त्योहार थोड़ा कम मनाएं। इस साल स्वास्थ्य जरूरी है। जो बचेगा वो अगले साल पूरा कर लेंगे। कोरोना से दोबारा संक्रमण के मामलों को लेकर उन्होंने कहा कि माइल्ड इंफेक्शन वालों को फिर से इंफेक्शन हो सकता है। एक बार कोरोना होने के बाद फिर से भी संक्रमण हो सकता है।

एम्स निदेशक ने कहा कि इम्यूनिटी कम होने लगती है, तो फिर से संक्रमण का खतरा है। कुछ लोगों की इम्यूनिटी तीन से चार महीने बाद धीरे-धीरे कम होने लगती है। ऐसे में यह कहना मुश्किल है कि किसे कितने समय तक प्रोटेक्शन रहेगा।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.