विधायक दल की बैठक में गहलोत का बड़ा बयान, जो हुआ वो भूल जाएं, अपने तो अपने होते हैं

13 Aug, 2020 18:11 IST|Sakshi
विधायक दल की मीटिंग में शामिल होने पहुंचे सचिन पायलट

जयपुर : राजस्थान में लगभग एक महीने तक चली सियासी खींचतान व बयानबाजी के बाद पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट बृहस्पतिवार शाम को यहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिले। तकरीब डेढ़ घंटे तक चली यह बैठक खत्म हो चुकी है। इस बैठक में सीएम अशोक गहलोत ने बड़ा बयान दिया है। उन्‍होंने कहा कि हम विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव खुद लाएंगे,जो बातें हुईं सब भुला दीजिए। हम इन 19 विधायकों के बिना भी बहुमत साबित कर देते, लेकिन वो खुशी नहीं होती। अपने तो अपने होते हैं।

विश्वास पस्ताव लाएगी गहलोत सरकार
अशोक गहलोत की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार ने विधानसभा के शुक्रवार से शुरू हो रहे सत्र में विश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया है। पार्टी के एक नेता ने इसकी जानकारी दी ।पार्टी नेता ने कहा, ' विधायक दल की यहां हुई बैठक में यह घोषणा की गयी कि विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा।'

बैठक में मौजूद रहे पार्टी के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे ने से कहा,' कांग्रेस विश्वास प्रस्ताव लाएगी। हमने इसके लिए विधानसभा सचिवालय को अर्जी दी है। विधानसभा की कार्य संचालन समिति इस बारे में कोई फैसला लेगी।'

विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत ने विधायकों से अब तक हुई बातों को भूलकर आगे बढ़ने को कहा। विधानसभा का पांचवां सत्र शुक्रवार से शुरू हो रहा है। उल्लेखनीय है कि 200 सदस्यों की विधानसभा में कांग्रेस के 107 विधायक हैं। वहीं 13 निर्दलीय, राष्ट्रीय लोक दल का एक, माकपा के दो, भारतीय ट्राइबल पार्टी के दो व भाजपा के 72 व उसकी सहयोगी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के तीन विधायक हैं।

सत्र को लेकर पूरी की गई तैयारियां
बैठक में गहलोत व पायलट के साथ कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, पार्टी के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे व पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी मौजूद थे। इसके बाद कांग्रेस विधायक दल की बैठक मुख्यमंत्री निवास में हुई जिसमें गहलोत, पायलट के साथ साथ कांग्रेस व उनके समर्थक विधायक भी शामिल हुए। इस बीच अधिकारियों ने बताया कि विधानसभा सत्र को लेकर सारी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं।

हम जनता की सेवा के लिए आए हैं विश्वेंद्र सिंह
वहीं बैठक खत्म होने के बाद विधायक विश्वेंद्र सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा किदूध का दूध पानी का पानी हो गया है। हमारे पर आरोप पर आरोप लगते रहे, वे बेबुनियाद हैं साथ ही कहा कि मैंने हमेशा कहा, मैं कांग्रेस में था और कांग्रेस में हूं। मुख्यमंत्री ने स्वागत किया और बुलाया हमें, जो भी आरोप थे उनका पर्दाफाश हो गया है। हम एक महीने इसलिए बाहर रहे कि हमारे साथ किसी प्रकार की कोई घटना नहीं हो। हमने न पहले कभी कुछ मांगा था और नहीं अब मांग रहे। हम जनता की सेवा के लिए आए हैं।

मुस्कुराए पर गले नहीं मिले गहलोत और पायलट
इससे पहले  सीएम आवास पर पहुंचते ही पायलट और गहलोत मीडिया के सामने मुस्कुराते तो जरूर दिखाई दिए लेकिन कोरोना के कारण लगाए गए मास्क से यह पता नहीं चल पाया कि अशोक गहलोत और सचिन पायलट इस मुलाकात के बाद कितने खुश हैं और चेहरे के भाव क्या है। इस बैठक में गहलोत व पायलट के साथ कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, पार्टी के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे व पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी मौजूद थे। 

सत्र के हंगामेदार रहने की संभावना
राजस्थान में लगभग एक महीने से जारी सियासी खींचतान के बाद विधानसभा का सत्र शुक्रवार से शुरू होगा। मुख्य विपक्षी दल भाजपा द्वारा सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाए जाने की घोषणा के बीच विधानसभा का यह सत्र काफी हंगामेदार रहने की संभावना है। 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.