केंद्रीय विद्यालय संगठन ने स्कूलों को खोलने का शेड्यूल किया जारी, जानिए क्या है प्लान

20 Sep, 2020 14:41 IST|Sakshi
फोटो : सौ. सोशल मीडिया

स्कूल के खोलने का प्लान

अभिभावकों को नहीं भा रहा प्रस्ताव

अभिभावकों से सहमति जरूरी 

नई दिल्ली :  कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण कई राज्‍यों में स्‍कूल नहीं खोलने फैसला लिया है। 21 सितंबर से गिने-चुने राज्‍यों में ही कक्षा 9 से 12 तक के स्‍कूल खुल रहे हैं। इस दौरान बच्‍चे स्‍कूल में तभी दाखिल हो सकेंगे जब उनके पास पैरेंट्स की रिटेन परमिशन होगी। कोरोना से बचने के लिए सारे उपाय होंगे। मास्‍क और सोशल डिस्‍टेंसिंग अनिवार्य हैं, एंट्री पर थर्मल स्‍क्रीनिंग होगी। 

अभिभावकों से सहमति जरूरी 

 केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के अधीन काम करने वाले केंद्रीय विद्यालय संगठन से जुड़े स्कूलों ने इसे लेकर प्लान जारी कर दिया है। इसके लिए अभिभावकों से सहमति मांगी गई है।  21 सितंबर से राज्य और केंद्र शासित प्रदेश स्कूलों में 50 फीसद टीचिंग स्टाफ को स्कूल आने की अनुमति दे सकते हैं। इस दौरान कक्षा नौ से 12वीं तक के छात्र भी अभिभावक की सहमति के बाद शिक्षकों से मार्गदर्शन लेने स्कूल जा सकेंगे। वैसे तो स्कूलों, कोचिंग सहित दूसरे सभी शैक्षणिक संस्थानों को 30 सितंबर तक बंद रखा गया है। इस बीच दिल्ली सरकार ने अपने स्कूलों को पांच अक्टूबर तक बंद रखने का घोषणा की है।

स्कूल के खोलने का प्लान

केंद्रीय विद्यालयों की ओर से अभिभावकों को स्कूलों के खोलने का पूरा प्लान भेजा गया है। इसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार के निर्देशानुसार विद्यालय 21 सितंबर से फिर से खुल रहा है। ऐसे में स्वेच्छा से अपने बच्चों को स्कूल भेजें। बच्चों को विद्यालय से लाने और ले जाने की पूरी जिम्मेदारी अभिभावकों की खुद होगी। इस दौरान बच्चों के स्कूल आने का जो प्लान भेजा गया है, उनमें 11वीं और 12वीं के बच्चों को सिर्फ सोमवार और मंगलवार आना है। जबकि दसवीं के बच्चों को बुधवार और गुरूवार और नौवीं के बच्चों को शुक्रवार और शनिवार को आना है।

अभिभावकों को नहीं भा रहा प्रस्ताव

जारी प्‍लान में कहा गया है कि बच्चों को लंच और पानी की बोतल के साथ मास्क और सैनिटाइजर भी अनिवार्य रूप से लाना होगा। हालांकि कोरोना के तेजी से बढ़ते संक्रमण को देखते हुए स्कूलों की ओर से भेजा गया यह प्रस्ताव ज्यादातर अभिभावकों को भा नहीं रहा है। फिलहाल केंद्रीय विद्यालयों से जुड़े शिक्षकों का कहना है कि किसी भी बच्चे पर स्कूल आने का कोई दबाव नहीं होगा। हालांकि जो आना चाहते हैं। उन्हें फोन करके और किस संबंध में आ रहे हैं। इसकी जानकारी पहले देनी होगी।  

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.