मुंबई पुलिस कमिश्नर बोले- सुशांत सिंह राजपूत मामले में बिहार पुलिस को जांच करने का हक नहीं

3 Aug, 2020 13:30 IST|Sakshi
मुंबई पुलिस कमिश्नर

सुशांत के परिवार ने किसी पर शक नहीं जताया

सुशांत सिंह मामले में पुलिस कमिश्नर की प्रेस कॉन्फ्रेंस

मुंबई : सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या मामले की जांच को लेकर बिहार और मुंबई पुलिस के बीच विवाद जारी है। मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि इस पूरे मामले में बिहार पुलिस को जांच करने का कोई अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि इस पर कानूनी सलाह ली जा रही है और अभी तक किसी को भी क्लीन चिट नहीं दी गई है।

बिहार पुलिस के अधिकारी को क्वारंटीन करने के सवाल पर परमबीर सिंह ने कहा कि ये अधिकार हमारे पास नहीं है, किसी को क्वारंटीन करने का अधिकार बीएमसी रखती है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में पुलिस कमिश्नर ने बताया कि 16 जून को सुशांत के परिवार वालों ने कहा था कि उन्हें किसी पर शक नहीं है। 

साथ ही सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए मुंबई के पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने सोमवार को कहा कि मरहूम सुशांत सिंह राजपूत के घर पर 13 जून को कोई पार्टी नहीं हुई थी। 14 जून को सुशांत के कथित तौर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।

परमबीर सिंह ने कहा, "मुम्बई पुलिस इस मामले की गम्भीरता से जांच कर रही है। हमने हर एक कोण खंगाल रहे हैं। हमने इस सिलसिले में सुशांत के परिजनों, दोस्तों, डॉक्टर एवं अन्य लोगों के बयान लिए हैं। इसके अलावा हमने सुशांत के बैंक खातों से ट्रांजेक्शन को भी खंगाला है।"

यह पूछे जाने पर कि जैसा कि सोशल मीडिया पर काफी जोर-शोर है कि इस मामले में महाराष्ट्र की कोई बड़ी राजनीतिक हस्ती शामिल लगती है, इस पर सिंह ने कहा कि अब तक की जांच से ऐसा कोई तथ्य सामने नहीं आया है। 

वहीं, बिहार के पुलिस अधिकारी विनय तिवारी को जबरन क्वारंटाइन किए जाने की खबरों के बाद बृहनमुम्बई म्यूनिसिपल कोरपोरेशन (बीएमसी) ने सफाई देते हुए सोमवार को कहा है कि कुमार को 'कोविड-19 महामारी से जुड़े मौजूदा नियमों के तहत क्वारंटाइन' किया गया है। रविवार को मुम्बई पहुंचे पटना सेंट्रल के एसपी तिवारी को गोरेगांव पुलिस स्टेशन गेस्ट हाउस में रखा गया है।

बीएमसी ने कहा है कि साउथ वेस्ट एडमिनिस्ट्रेशन को जानकारी मिली थी कि विनय बिहार से यहां आ रहे हैं और वह गोरेगांव ईस्ट स्थित एसआरपीएफ ग्रुप गेस्ट हाउस में निवास करने वाले हैं। बीएमसी टीम ने रविवार शाम को तिवारी से सम्पर्क किया। एक अधिकारी ने कहा, "घरेलू ट्रेवल यात्री होने के नाते तिवारी को राज्य सरकार के नियमों के मुताबिक होम क्वारंटाइन के लिए कहा गया। इसी सम्बंध में हमारे अधिकारी उनसे मिले और रविवार रात को उन्हें क्वारंटाइन कर दिया गया।"

अधिकाररी ने कहा कि बीएमसी टीम ने तिवारी को घरेलू ट्रेवल पेसेंजर्स के लिए बनाए गए नियमों के बारे में विस्तार से बताया। यह नियम 25 मई को लागू हुआ था और इसका नम्बर डीएमयू/2020/सीआर डॉट 92/डीआईएसएम-1 है।

अधिकारी ने कहा कि तिवारी को 15 अगस्त तक के लिए क्वारंटाइन किया गया और साथ ही साथ उन्हें अपने होम क्वारंटाइन अवधि को कम करने के लिए आवेदन भी करने के लिए कहा गया है। यह नियम हर एक घरेलू यात्री पर लागू होता है।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.