सावधान : असम में फैली एक नयी बीमारी, मुख्यमंत्री ने दिया सारे प्रभावित जानवर मारने के आदेश

24 Sep, 2020 08:20 IST|Sakshi
फोटो : सौ. सोशल मीडिया

सुअरों को मारने पर मुआवजा देगी सरकार 

केंद्र सरकार ने जारी की पहली किस्त 

राज्य के 14 जिले प्रभावित

गुवाहाटी :  देश में एक ओर जहां कोरोना वायरस का कहर जारी है, वहीं अब एक और बिमारी की दस्तक ने केंद्र सरकार की चिंता ​बड़ा दी है। असम में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू से प्रभावित इलाकों में सरकार ने 12 हजार सुअरों को मारने का आदेश दिया है। राज्य सरकार ने बीमारी की रोकथाम के लिए जारी आदेश में कहा है कि अधिकारी ऐसे पशुओं के मालिकों को पर्याप्त मात्रा में मुआवजा देने की व्यवस्था करें। 

सुअरों को मारने पर मुआवजा देगी सरकार 

असम सरकार ने आदेश जारी कर कहा कि जिन इलाकों स्वाइन फ्लू का असर देखा जा रहा है, वहां मौजूद कुल 12 हजार सुअरों को मार दिए जाए। इसके लिए अनके मालिकों को पर्याप्त मात्रा में मुआवजा दिया जाए। स्वाइन फ्लू के कारण अब तक असम में 18 हजार से अधिक मवेशियों की मौत हो चुकी है। एक अधिकारी ने कहा कि 12,000 सूअरों के मालिकों के बैंक खातों में धन जमा कराया जाएगा जबकि पहले ही मर चुके 18,000 सूअरों के मालिकों को आर्थिक सहायता देने के लिए सरकार को एक प्रस्ताव भेजा गया है। 

केंद्र सरकार ने जारी की पहली किस्त 

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल बैठक के दौरान बताया कि केंद्र ने पहले ही मुआवजे की पहली किस्त जारी कर दी है और राज्य सरकार महामारी से निपटने के उपायों के लिए राशि सहित मुआवजे का हिस्सा जल्द जमा करेगी। उन्होंने पशुपालन और पशु चिकित्सा विभाग को भी प्रभावित क्षेत्रों को संवेदनशील घोषित करने के लिए कहा ताकि स्वस्थ पशुओं को संक्रमण से बचाया जा सके और राज्य भर के सभी सरकारी खेतों का सर्वेक्षण करने का निर्देश दिया।

राज्य के 14 जिले प्रभावित

राज्य सरकार के बयान के अनुसार स्वाइन फ्लू से प्रदेश के 14 जिले प्रभावित हुए हैं। इन सभी जिलों के 3 क्षेत्रों में प्रभावित पशुओं को मारने का काम किया जाएगा। असम में कोरोना काल के बीच स्वाइन फ्लू के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने आधिकारिक स्तर पर ये आदेश जल्द से जल्द लागू करने के निर्देश दिए हैं।

फरवरी में सामने आया था पहला केस

अफ्रीकन स्वाइन फ्लू असम में सबसे पहले इस वर्ष फरवरी में सामने आया था। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया, ‘संक्रमण छह जिलों से 3 और जिलों माजुली, गोलाघाट और कामरूप मेट्रोपॉलिटन में फैल गया है।’ शुरुआत में राज्य के 6 जिलों डिब्रूगढ़, शिवसागर, जोरहाट, धेमाजी, लखीमपुर और बिश्वनाथ जिले में संक्रमण सामने आया था।

राज्य में 30 लाख से अधिक सूअर

कृषि मंत्री अतुल बोरा ने कहा था कि विभाग द्वारा 2019 की गणना के अनुसार, राज्य में सूअरों की संख्या 21 लाख थी, जो अब बढ़कर 30 लाख हो गई है। बोरा ने कहा था कि इस बीमारी का पता पहली बार राज्य में इस साल फरवरी के अंत में चला था लेकिन इसकी शुरुआत अप्रैल 2019 में अरुणाचल प्रदेश की सीमा से लगे चीन के शिजांग प्रांत से हुई थी।  
 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.