विधानसभा चुनाव के पहले वोटरों को मिजाज समझने की कोशिश करेंगे अमित शाह, मिशन तमिलनाडु पर है नजर

21 Nov, 2020 17:12 IST|Sakshi
एयरपोर्ट पहुचते ही अमित शाह ने प्रोटोकाल तोड़कर लोगों का अभिवादन स्वीकार किया।

चेन्नई : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ( Amit Shah) शनिवार की दोपहर तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई पहुंचे। इस दौरान उनका भव्य स्वागत हुआ। उनके स्वागत के लिए मुख्यमंत्री के.पलानीस्वामी  (K. Palaniswami), उपमुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम  (O. Panneerselvam) और अन्य मंत्रियों ने किया। तमिलनाडु भाजपा के नेताओं ने भी हवाईअड्डे पर शाह की अगवानी की। वहीं हवाईअड्डे के बाहर सड़क किनारे खड़े भाजपा और एआईएडीएमके कैडरों को देखकर शाह सड़क तक चलकर आए और अपने हाथ हिलाकर अभिवादन किया।

प्रोटोकॉल तोड़ गाड़ी से बाहर निकले अमित शाह
केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह शनिवार को यहां लोगों को आश्चर्यचकित करते हुए अपने समर्थकों का अभिवादन करने के लिए प्रोटोकॉल को तोड़ते हुए अपने वाहन से बाहर निकले और हवाई अड्डे के बाहर व्यस्त जीएसटी रोड पर पैदल चलने लगे। शाह शहर की दो दिवसीय यात्रा पर यहां पहुंचे है। उन्होंने महानगर के लोगों को उनके प्यार के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि उनके लिए तमिलनाडु में होना बड़ी बात है।

शाह को दिन में तमिलनाडु सरकार के एक कार्यक्रम में भाग लेना है जहां वह चेन्नई मेट्रो रेल के दूसरे चरण समेत 67 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं का उद्घाटन करेंग और आधारशिला रखेंगे। दिल्ली से पहुंचने के तुरन्त बाद शाह की अगवानी तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी, उप मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम, मंत्रिमंडल के वरिष्ठ सदस्यों और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एल मुरुगन और अन्य लोगों ने की। हवाई अड्डे से बाहर निकलने के बाद शाह की कार अचानक रूकी और वह भाजपा और अन्नाद्रमुक कार्यकर्ताओं का अभिवादन करने के लिए कुछ दूर पैदल चले। शाह के दौरे के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किये गये है। 

कई अन्य परियोजनाओं की रखी जाएगी आधारशिला
तमिलनाडु सरकार ने कहा कि शाह चेन्नई के निवासियों की जरूरतों का पूरा करने के लिए उन्हें नया वॉटर रिजर्व वायर समर्पित करेंगे। साथ ही कई अन्य परियोजनाओं की भी आधारशिला रखी जाएगी। 380 करोड़ रुपये से बनने वाला नया रिजर्व वायर कलिवानर आरंगम में मुख्यमंत्री के अध्यक्षता में समर्पित किया जाएगा।

इसके अलावा शाह 61,843 करोड़ रुपये के खर्च वाली चेन्नई मेट्रो रेल के फेज 2 , कोयम्बटूर में 1,620 करोड़ रुपये की एलिवेटेड एक्सप्रेसवे परियोजना, चेन्नई ट्रेड सेंटर का विस्तार (309 करोड़ रुपये), वल्लूर में इंडियन ऑयल कॉपोर्रेशन का पेट्रोलियम टर्मिनल (900 करोड़ रुपये), 1,400 करोड़ रुपये का ल्यूब प्लांट, कामराजार बंदरगाह पर 900 करोड़ रुपये का टर्मिनल और करूर जिले में कावेरी नदी के पार स्लुइस गेट के साथ 406 करोड़ रुपये के चेक डैम की आधारशिला रखेंगे।

डीएमके के पूर्व सांसद हुए बीजेपी में शामिल
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह तमिलनाडु के दौरे पर हैं और डीएमके के पूर्व सांसद के.पी. रामलिंगम तमिलनाडु भाजपा में शामिल हो गए हैं।भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी के तमिलनाडु इकाई के प्रभारी सी.टी.रवि ने कहा, "यह न केवल डीएमके और उसके आधार को कमजोर करेगा, बल्कि पूरे राज्य में भाजपा को मजबूत करेगा।"एक ट्वीट में रवि ने यह भी कहा, "केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह के आज चेन्नई आने के बाद पूरे तमिलनाडु में कमल (भाजपा का चुनाव चिन्ह) खिलने जा रहा है।"बता दें कि रामलिंगम को पार्टी नेतृत्व के खिलाफ बोलने के लिए अप्रैल में डीएमके से हटा दिया गया था। हाल के दिनों में भाजपा में शामिल होने वाले वे डीएमके के दूसरे नेता हैं। इससे पहले पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष वी.पी. दुरैसामी डीएमके छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे।डीएमके के सांसद के.के.सेल्वम ने भी डीएमके नेतृत्व की आलोचना की थी और भाजपा का समर्थन किया था।

क्यों खास है शाह का राजनीतिक दौरा
दरअसल अमित शाह का यह दौरा विकास कार्यों से ज्यादा राजनीतिक मायनों से जोड़कर देखा जा रहा है। चर्चा है कि कि अमित शाह  की मुलाकात एम के अलागीरी  से मुलाकात हो सकती है। यही नहीं उनके अलावा रजनीकांत से भी भेंट कर सकते हैं।  ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि आखिर ऐसा क्या है शाह के चेन्नई के दौरे को सियासी नजरिए से अहम माना जा रहा है। 

डीएमके के पूर्व सांसद हुए बीजेपी में शामिल
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह तमिलनाडु के दौरे पर हैं और डीएमके के पूर्व सांसद के.पी. रामलिंगम तमिलनाडु भाजपा में शामिल हो गए हैं।भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी के तमिलनाडु इकाई के प्रभारी सी.टी.रवि ने कहा, "यह न केवल डीएमके और उसके आधार को कमजोर करेगा, बल्कि पूरे राज्य में भाजपा को मजबूत करेगा।"एक ट्वीट में रवि ने यह भी कहा, "केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह के आज चेन्नई आने के बाद पूरे तमिलनाडु में कमल (भाजपा का चुनाव चिन्ह) खिलने जा रहा है।"बता दें कि रामलिंगम को पार्टी नेतृत्व के खिलाफ बोलने के लिए अप्रैल में डीएमके से हटा दिया गया था। हाल के दिनों में भाजपा में शामिल होने वाले वे डीएमके के दूसरे नेता हैं। इससे पहले पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष वी.पी. दुरैसामी डीएमके छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे।डीएमके के सांसद के.के.सेल्वम ने भी डीएमके नेतृत्व की आलोचना की थी और भाजपा का समर्थन किया था।

शाह के दौरे के राजनीतिक मायने
अमित शाह के दौरे से पहले तमिलनाडु की राजनीति को समझना जरूरी है। दरअसल राज्य में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं। ऐसे में एआईएडीएमके और डीएमके के बीच आमने सामने की सीधी लड़ाई होनी तय मानी जा रही है। हांलांकि इन सबके बीच डीएमके सुप्रीमो  एम के स्टालिन और उनके भाई एम के अलागीरी के बीच जो रिश्ता है उसे समझना जरूरी है। एक बात तो सभी को मालूम है कि अलागीरी और स्टालिन के बीच रिश्ते कभी सामान्य नहीं रहे और इस पृष्ठभूमि में बीजेपी को लगता है कि अगर अलागीरी अलग पार्टी बनाते हैं तो सुदुर दक्षिण में बीजेपी सीटें जीत सकती है। 

कार्यकर्ताओं से करेंगे मुलाकात
शाह 2021 के विधानसभा चुनावों से पहले तमिलनाडु भाजपा के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से मिलेंगे। उनकी यह यात्रा बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए की जीत के बाद हो रही है। तमिलनाडु भाजपा इकाई के प्रमुख एल.मुरुगन ने दावा किया था कि शाह के दौरे से विपक्षी दलों के मन में डर पैदा होगा।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.