ऐश्वर्या के चुनाव लड़ने की खबर से डरे हुए हैं तेज प्रताप, इसीलिए डाला नई जगह डेरा

23 Sep, 2020 20:22 IST|Sakshi
तेज प्रताप यादव

पत्नी ऐश्वर्या के डर से मैदान छोड़ भागे तेज

हार के डर से हसनपुर चले गए तेज

मुस्लिम और यादव वोटरों का दबदबा

पटना: आज जिस समय यह खबर आई कि आरजेडी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने हसनपुर में डेरा डाल दिया है, तो राजनीतिक गलियारे में तरह तरह की बातें होने लगीं।

पत्नी ऐश्वर्या के डर से मैदान छोड़ भागे तेज

तेज हसनपुर में लगातार रोड शो कर रहे हैं। जनता से मिल रहे हैं। जबकि इससे पहले वे महुआ से विधायक चुने गए थे। इसी बीच जब ये खबर उड़ी कि ऐश्वर्या उनके ख़िलाफ़ महुआ से चुनाव लड़ सकती हैं, तब जाकर सारा माजरा समझ आया। बता दें ऐश्वर्या से उनका तलाक़ का केस चल रहा है।

हार के डर से हसनपुर चले गए तेज

विपक्ष का आरोप है कि तेज प्रताप हार के डर से हसनपुर चले गए हैं। इस पर वे कहते हैं कि मुझे किस बात का डर? मैंने महुआ के लिए जो कहा, वो किया। मेडिकल कॉलेज खुलवाया। जब उनसे सवाल पूछा गया कि अगर ऐश्वर्या यहां भी उनके ख़िलाफ़ चुनाव लड़ने आ गईं तो वे क्या करेंगे? इस पर तेज प्रताप ने कहा कि वे हर हाल में हसनपुर की जनता के बीच रहेंगे।

मुस्लिम और यादव वोटरों का दबदबा

हसनपुर एक तरह से उनके लिए सुरक्षित सीट मानी जाती है। पिछले चुनाव में भी यहां से आरजेडी के उम्मीदवार जीते थे। यहां मुस्लिम और यादव वोटरों का दबदबा है। ये पारंपरिक रूप से आरजेडी के वोटर माने जाते हैं।

तेज के लिए हीरो और विलेन कौन?

इस बार के चुनाव में तेज प्रताप के लिए हीरो और विलेन कौन? इसके जवाब में वे कहते हैं कि लालू यादव उनके हीरो हैं, लेकिन प्रचार में न होने से उनकी कमी ज़रूर खलेगी। बता दें कि चारा घोटाला केस में लालू राँची जेल में हैं और उन्हें अब तक बेल नहीं मिली है।

असली विलेन तो पीएम नरेंद्र मोदी हैं

तेज प्रताप ने कहा कि असली विलेन तो पीएम नरेंद्र मोदी हैं। चाचा नीतीश कुमार तो स्टेपनी विलेन हैं। रोड शो के दौरान बाढ़ के पानी में डूबे घर की तरफ़ इशारा करते हुए तेज ने कहा कि एनडीए को इन लोगों की चिंता नहीं है। उन्हें सिर्फ़ चुनाव की जल्दबाज़ी है, गरीबी और बेरोज़गारी से बिहार बेहाल है।

सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर चला रहे अपनी दुकान

तेज प्रताप यादव का कहना है कि गुप्तेश्वर पांडेय ने तो बस नाम की वर्दी पहन रखी थी। वे तो सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर अपनी दुकान चला रहे थे। उन्होंने कहा कि पांडे की तो शुरू से ही राजनीति में जाने की लालसा थी।

नीतीश के मुक़ाबले सीएम का चेहरा कौन?

महागठबंधन से नीतीश कुमार के मुक़ाबले सीएम का चेहरा कौन? इसके जवाब में तेज प्रताप कहते हैं कि ये कोई पूछने की बात है? हमारे मुख्यमंत्री तो तेजस्वी यादव हैं। वे मेरे अर्जुन हैं और मैं उनका सारथी।

आरजेडी का दरवाज़ा चिराग़ के लिए हमेशा खुला

तेज प्रताप यादव चाहते हैं कि चिराग़ पासवान एनडीए छोड़ दें। उन्होंने कहा कि नौजवान नेताओं को साथ आना चाहिए। तेज ने बताया कि आरजेडी का दरवाज़ा चिराग़ के लिए हमेशा खुला रहेगा।

बता दें कि चिराग़ पासवान और नीतीश कुमार में इन दिनों ठनी हुई है। लोक जनशक्ति पार्टी इस बार 143 सीटों पर चुनाव लड़ने का दंभ भर रही है।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.