राजस्थान के सियासी ड्रामे में हाथ मलती रह गई बीजेपी, एक ही मंच पर मुस्कुराते दिखे पायलट और गहलोत

14 Aug, 2020 08:16 IST|सुषमाश्री
अशोक गहलोत और सचिन पायलट

वसुंधरा के 10 विधायकों के इंतजाम से बीजेपी में मचा था हड़कंप

जयपुर एयरपोर्ट पर 3 दिन चॉपर रहे, लेकिन नहीं आए विधायक

तारीखों के ऐलान के बाद भी बीजेपी की बैठक बार-बार टलती रही

जयपुर: लंबे समय से चले आ रहे राजस्थान के सियासी ड्रामा ऐसी जगह पर जाकर खत्म हुआ है, जिसकी उम्मीद तो शायद राजनीतिक विश्लेषक भी नहीं लगा पाए होंगे। कांग्रेस पार्टी ने इस संकट का ​मुकाबल जितनी खूबसूरती से किया, उससे सबसे ज्यादा नुकसान भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को होता दिख रहा है। वहीं, ऐसा प्रतीत होता है जैसे कि बवाल शुरू होने से लेकर अब तक खामोश नजर आती रहीं वसुंधरा राजे अंत में इस पूरे सियासी ड्रामे के बाद जीत का सेहरा अपने सिर बांधकर आगे निकल गई हैं।

एक ओर इस सियासी ड्रामे की वजह से जहां बीजेपी पर कांग्रेस के विधायकों के खरीद-फरोख्त के आरोप लगे। वहीं, अपनी ही पार्टी ने भाजपा की बुरी तरह से फजीहत कर दी। खासकर राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने तो मानो बीजेपी को नाकों चने ही चबवा दिए।

बीजेपी पर हरियाणा के मानेसर होटल में कांग्रेस विधायकों के आवाभगत के आरोप लगे

गौरतलब है कि बीजेपी पर हरियाणा के मानेसर होटल में कांग्रेस के विधायकों के आवाभगत के आरोप लगे जबकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट आज एक ही मंच पर एक साथ बैठकर मुस्कुराते हुए दिख रहे हैं। दरअसल, जिस तरह से कांग्रेस में बगावत हुई थी, बीजेपी में भी उसी बगावत का डर कांग्रेस की फूट के बाद सामने आने लगा था। बीजेपी को भनक लगी कि कांग्रेस उनके कई विधायकों से संपर्क साध रही है और वसुंधरा राजे ने अशोक गहलोत को आश्वासन दे रखा है कि कम से कम 10 विधायकों का इंतजाम कर देंगी तो इसके बाद बीजेपी में हड़कंप मच गया।

3 दिन तक बीजेपी के तीन चॉपर जयपुर एयरपोर्ट पर खड़े रहे

इस बात में सच्चाई हो या ना हो, बीजेपी ने जब जयपुर एयरपोर्ट पर तीन चॉपर उतार दिए कि वसुंधरा राजे समर्थक विधायकों को गुजरात भेजा जाएगा, लेकिन झालावाड़ धौलपुर समेत कुछ दूसरे जिले के विधायकों ने जाने से मना कर दिया और 3 दिन तक बीजेपी के तीन चॉपर जयपुर एयरपोर्ट पर खड़े रहे। बीजेपी नेता फोन करते रहे मगर वसुंधरा समर्थकों ने यह कह कर जाने से मना कर दिया कि जब तक मैडम का आदेश नहीं होगा, वह कहीं नहीं जाएंगे। इसके बाद बीजेपी ने तय किया कि 10 अगस्त को सभी विधायकों को जयपुर बुलाया जाएगा और 11 अगस्त से इनकी बाड़े बंदी जयपुर के क्राउन प्लाजा होटल में होगी। लेकिन बीजेपी की सारी तैयारी धरी रह गई क्योंकि सचिन पायलट दिल्ली में प्रियंका गांधी और राहुल गांधी से मिलने पहुंच गए।

टलती रही बीजेपी की बैठक

उसके बाद तय हुआ कि बीजेपी की बैठक अब 11 अगस्त को बीजेपी कार्यालय जयपुर में होगी मगर बैठक नहीं हो पाई। फिर तय हुआ कि 12 अगस्त को जयपुर में बैठक होगी फिर भी बैठक नहीं हो पाई। आखिर में 13 अगस्त को बीजेपी दफ्तर में बीजेपी विधायक दल की बैठक हुई जिसमें पर्यवेक्षक के रूप में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर आए और उनके साथ बीजेपी नेता अविनाश राय खन्ना संगठन सचिव भी सतीश और मुरलीधर राव शामिल हुए।

अविश्वास प्रस्ताव पेश करेगी बीजेपी

यह तय किया गया कि 14 अगस्त को जैसे ही विधानसभा का सत्र शुरू होगा बीजेपी अविश्वास प्रस्ताव पेश करेगी। यह घोषणा करते हुए नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि कांग्रेस दो फाड़ हो गई है, जिसकी सिलाई की कोशिश आलाकमान कर रही है, मगर यह सरकार चलने वाली नहीं है और खुद गिरेगी। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि देखिए किस तरह से विधायकों पर खरीद-फरोख्त का आरोप लगाकर मानेसर के और दिल्ली में होटल के बाहर स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप और एंटी करप्शन ब्यूरो के पुलिस वाले बैठे रहते थे और आज उन्हीं विधायकों से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मुख्यमंत्री निवास में बातचीत कर रहे हैं।

अरसे बाद बैठक में आईं वसुंधरा

साफ दिखाता है कि किस तरह से जांच एजेंसियों का दबाव बनाकर विधायकों को डराया धमकाया गया और अगर वह अपराधी हैं तो फिर मुख्यमंत्री निवास में मुख्यमंत्री के पास क्यों बैठे हैं। दूसरी ओर, वसुंधरा राजे लंबे अरसे बाद गुरुवार को बीजेपी कार्यालय में आईं मगर उन्होंने मीडिया से कोई बातचीत नहीं की। विधायक दल की बैठक में उन्होंने कहा कि 10 साल हमने पार्टी की सेवा की है और राजमाता ने हमें खुद से आगे पार्टी को रखना सिखाया है।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.