10 अगस्त तक आ सकती है दुनिया की पहली वैक्सीन, रूस में पूरे हुए ट्रायल

7 Aug, 2020 13:48 IST|Sakshi
कॉन्सेप्ट फोटो

नई दिल्ली : दुनियाभर में कोरोना महामरी ने आतंक मचा रखा है। इस बीच एक अच्छी खबर आई है। ये अच्छी खबर रूस से है जहां पर कोरोना वैक्सीन का ट्रायल खत्म हो चुका है और उसे जल्द ही मार्केट में उतारा जा सकता  है। रसियन हेल्थ मिनिस्टर ने कहा कि उनके भरोसेमंद वैक्सीन का ट्रायल पूरा हो चुका है। ये वही वैक्सीन है, जिसे गामालेया इंस्टीट्यूट ने बनाया है। इसके साथ ही दो और कंपनियों ने क्लीनिकल ट्रायल करने की अनुमति मांगी है।

पिछले महीने किया था दावा
मॉस्को स्थित गामालेया इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों ने पिछले महीने दावा किया था कि वो अगस्त के मध्य तक कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन को मंजूरी दे सकता है। यानी अगले दो हफ्तों में रूस कोरोना वायरस की वैक्सीन बाजार में ला देगा। रूसी अधिकारियों और वैज्ञानिकों ने एक चैनल को बताया था कि वो वैक्सीन की मंजूरी के लिए 10 अगस्त या उससे पहले की तारीख पर काम कर रहे हैं।गामालेया इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों का दावा है कि वे इस वैक्सीन को आम जनता के उपयोग के लिए 10 अगस्त तक मंजूरी दिलवा देंगे। लेकिन, सबसे पहले फ्रंटलाइन हेल्थवर्कर्स को दी जाएगी।

मंत्री बोले- यह ऐतिहासिक मौका है
किरिल मित्रिव ने कहा कि यह ऐतिहासिक मौका है। जैसे, उन्होंने अंतरिक्ष में पहला सैटेलाइट स्पुतनिक छोड़ा था। यह वैसा ही मौका है। अमेरिका के लोग सुनकर हैरान रह गए थे स्पुतनिक के बारे में, वैसे ही इस वैक्सीन के लॉन्च होने से वे फिर हैरान होने वाले हैं। हालांकि, रूस ने अभी तक वैक्सीन के ट्रायल का कोई डेटा जारी नहीं किया है। इस वजह से इसकी प्रभावशीलता के बारे में टिप्पणी नहीं की जा सकती है। 

बता दें कि दुनियाभर में 13 से ज्यादा वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। कुछ देशों में वैक्सीन का ट्रायल तीसरे चरण में हैं, रूसी वैक्सीन को अपना दूसरा चरण पूरा करना बाकी है। वैक्सीन के डेवलपर ने 3 अगस्त तक इस चरण को पूरा करने की योजना बनाई है। इसके बाद तीसरे चरण का परीक्षण शुरू किया जाएगा। रूसी वैज्ञानिकों का कहना है कि वैक्सीन जल्दी तैयार कर ली गई, क्योंकि यह पहले से ही इस तरह की अन्य बीमारियों से लड़ने में सक्षम है। यही सोच कई अन्य देशों और कंपनियों की है।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.