रूस के लोगों को बड़ी राहत, इस हफ्ते से उपलब्ध होगी कोरोना वैक्सीन

6 Sep, 2020 23:14 IST|Sakshi
फोटो : सौ. सोशल मीडिया

ज्यादा जोखिम वाले समूहों को प्राथमिकता

ईरान- रूस मिलकर करेंगे वैक्सीन का प्रोडक्शन

मॉस्को : भारत सहित दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामले कहर बरपा रही है।  कोरोना संक्रमण के मामले अब दो करोड़ 66 लाख से अधिक हो चुके हैं और इस वायरस से मरने वालों की संख्या 8 लाख 75 हज़ार से अधिक है। लेकिन अब तक इस से निपटने के लिए कोई कारगर वैक्सीन नहीं बन पाई है।  ऐसे में रूस ने कोरोना वैक्सीन 'स्पूतनिक-V' लॉन्च करके लोगों में वैक्सीन को लेकर उम्मीदें बढ़ा दीं। अब रूस के प्रमुख अधिकारी ने बताया है कि 'स्पूतनिक-V' को इस हफ्ते आम नागरिकों के लिए उपलब्ध करा दिया जाएगा। शुरुआती कुछ समय तक रूसी कोरोना वैक्सीन फ्रंटलाइन वॉरियर्स के लिए ही उपलब्ध थी।

रूसी न्यूज एजेंसी के मुताबिक, 'स्पूतनिक-V' वैक्सीन के व्यापक इस्तेमाल के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने हरी झंडी दे दी है और अब इसे जल्द उपलब्ध कराया जाएगा।

वहीं दूसरी तरफ, रशियन एकेडमी ऑफ साइंसेस में डेप्युटी डायरेक्टर डेनिस लागुनोव ने कहा, 'कुछ दिनों में परीक्षण शुरू होगा। इसके कुछ समय बाद ही हमें अनुमति भी लेनी होगी। आम लोगों को वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए निश्चित प्रक्रिया है। 10-13 सितंबर के बीच, नागरिक इस्तेमाल के लिए वैक्सीन के बैच की अनुमति प्राप्त करनी है। उसके बाद से ही जनता को वैक्सीन लगाई जानी शुरू हो जाएगी।'  

ज्यादा जोखिम वाले समूहों को प्राथमिकता

रूसी कोरोना वैक्सीन 'स्पूतनिक-V' का वितरण स्वास्थ्य मंत्रालय के जांच के तहत किया जाएगा। लोगुनोव ने कहा कि वैक्सीन को देते वक्त ज्यादा जोखिम वाले समूहों को प्राथमिकता दी जाएगी। द लांसेट मेडिकल जर्नल द्वारा प्रकाशित परिणामों के अनुसार, शुक्रवार को और प्रगति करते हुए 'स्पूतनिक-V' ने शुरुआती फेज के ट्रायल में सभी मरीजों में एंटीबॉडी उत्पन्न की।

'स्पूतनिक-V' के दो ट्रायल इस साल जून-जुलाई में किए गए थे और इसमें 76 प्रतिभागी शामिल थे। परिणामों में 100 फीसदी एंटीबॉडी विकसित हुई और इसका कोई भी गंभीर दुष्प्रभाव भी सामने नहीं आया। 

ईरान- रूस मिलकर करेंगे वैक्सीन का प्रोडक्शन

रिपोर्ट के मुताबिक ईरान-रूस के बीच वैक्सीन के प्रोडक्शन को लेकर कोऑपरेशन की घोषणा शनिवार को मॉस्को में ईरान के राजदूत कजेम जलाली और रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष के सीईओ किरील दिमित्रिग ने ऑनलाइन मीटिंग में की। इस दौरान जलाली ने दोनों देशों के बीच स्वास्थ्य और चिकित्सा सहयोग का आह्वान किया। 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.