पाक करेगा भारतीय सिखों का स्वागत, नानक जयंती पर दिया निमंत्रण

19 Oct, 2020 16:38 IST|Sakshi
करतारपुर कॉरिडोर

27 नवंबर को ननकाना साहिब में शुरू होगा आयोजन

वाघा बॉर्डर से भारतीय तीर्थयात्रियों का होगा स्वागत

भारत से करतारपुर कॉरिडोर को खोलने का आह्वान

इस्लामाबाद: पाकिस्तान सरकार ने सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक की 551वीं जयंती के अवसर पर आयोजित समारोह में भाग लेने के लिए भारतीय सिखों को निमंत्रण भेजा है। इंडियन सिख संगत के माध्यम से एडवांस रूप से भेजे गए निमंत्रण के विवरण के अनुसार, भक्तों को अनिवार्य कोविड-19 परीक्षण के बाद पाकिस्तान में प्रवेश करने और वहां ठहरने के लिए पांच दिन का वीजा दिया जाएगा।

वक्फ प्रॉपर्टी बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा, "बाबा गुरु नानक देव की जयंती के उत्सव में भाग लेने के लिए आने वाले सभी तीर्थयात्रियों को अनिवार्य कोविड-19 टेस्ट का निगेटिव रिपोर्ट दिखाने के साथ भी अपने पूरे प्रवास के दौरान सभी कोविड-19 एसओपी का पालन करना होगा।" इसके अलावा देश के वक्फ बोर्ड और पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने भी शिरोमणि कमेटी ऑफ इंडिया सहित कई अन्य सिख समाजों को नियमित रूप से निमंत्रण भेजे हैं।

27 नवंबर को ननकाना साहिब में शुरू होगा
चल रहे कोविड-19 महामारी के कारण भारतीय सिखों को बिना किसी एक्सटेंशन के सीमित अवधि के लिए ही पाकिस्तान में रहने की अनुमति दी जाएगी। गुरु नानक गुरपर्ब के रूप में जाना जाने वाला तीन दिवसीय उत्सव 27 नवंबर को ननकाना साहिब में शुरू होगा।पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रमुख सरदार सतवंत सिंह ने कहा, "पाकिस्तान में भारतीय सिखों के प्रवास के विकल्प पर भारत में बंद सीमा और बढ़ते कोरोनावायरस आंकड़ों के मद्देनजर विचार किया जाना था।

यह भी पढ़ें: बाइडेन चीन के प्रति नरम रूख रख सकते हैं, जो भारत के लिए अच्छा नहीं : ट्रम्प जूनियर 

उन्होंने आगे कहा, "यात्रा करने वाले भारतीय सिख तीर्थयात्रियों की संख्या पर कोई नया प्रतिबंध नहीं होगा।" हालांकि, भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय समझौते के अनुसार, गुरदास समारोह के लिए विशेष रूप से 3,000 भारतीय सिख तीर्थयात्रियों को पाकिस्तान में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। वहीं इस बार तीर्थयात्रियों को ननकाना साहिब तक ही सीमित रखा जाएगा, इससे पहले उन्हें लाहौर में कई गुरुद्वारों, ननकाना साहिब, हसन अब्दल, करतारपुरा, रोहरी साहिब और फारूकबाद में जाने के लिए 10-दिवसीय वीजा का विकल्प दिया गया था। पहली बार तीर्थयात्रियों के पास लाहौर में रहने या खरीदारी करने का विकल्प नहीं होगा।

वाघा बॉर्डर से भारतीय तीर्थयात्रियों का स्वागत
सावंत सिंह ने कहा, "वाघा बॉर्डर पर 27 नवंबर को भारतीय तीर्थयात्रियों का स्वागत किया जाएगा, जहां से वे एक विशेष बस सेवा के माध्यम से वे ननकाना साहिब जाएंगे।" उन्होंने आगे कहा, "तीर्थयात्री ननकाना साहिब के विभिन्न गुरुद्वारों में जा सकते हैं और नगर कीर्तन में भाग ले सकते हैं।" रिपोटरें के अनुसार, भारत में शिरोमणि समिति सहित कुछ सिख समाजों ने भारत सरकार से गुरु नानक जयंती के लिए भारत के करतारपुर कॉरिडोर को खोलने का आह्वान किया है। सूत्रों के अनुसार, पाकिस्तान देश में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देना चाहता है। हालांकि, इस मामले पर भारत सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.