TikTok : माइक्रोसॉफ्ट ने की अधिग्रहण संबंधी बातों की पुष्टि, तो क्या भारत में आ रहा टिकटॉक ?

3 Aug, 2020 16:24 IST|Sakshi
कॉन्सेप्ट फोटो (सौजन्य सोशल मीडिया)

माइक्रोसॉफ्ट ने की अधिग्रहण संबंधी बातों की पुष्टि 

भारत में टिकटॉक की एन्ट्री की बढ़ी संभावनाएं 

सैन फ्रांसिस्को : माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नडेला और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच बातचीत होने के बाद कंपनी ने आधिकारिक तौर पर पुष्टि की है कि वह अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बाजारों में टिकटॉक के संचालन को खरीदने के लिए बातचीत कर रही है।

दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर निर्माण कंपनी ने सोमवार को एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि माइक्रोसॉफ्ट अमेरिका में टिकटॉक के अधिग्रहण के लिए आगे की बातचीत के लिए पूरी तरह से तैयार है। 

कंपनी ने कहा, "माइक्रोसॉफ्ट राष्ट्रपति की चितांओं के महत्व को अच्छे से समझता है। एक सम्पूर्ण सुरक्षा रिव्यू और अमेरिका व यहां की निधि को एक बेहतर आर्थिक लाभ पहुंचाने के लिए टिकटॉक की खरीदारी करने के लिए हम प्रतिबद्ध है।"

कंपनी की तरफ से यह आधिकारिक घोषणा उस एक रिपोर्ट के बाद की गई जिसमें कहा गया था कि राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा देश में टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद माइक्रोसॉफ्ट ने इसे खरीदने के विषय से संबंधित बातचीत को रोक दिया है। बतादें कि अमेरिका में टिकटॉक के मंथली आठ करोड़ यूजर्स हैं।

माइक्रोसॉफ्ट ने कहा कि टिकटॉक की मूल कंपनी बाइटडांस के साथ कुछ ही हफ्तों में आगे की बातचीत को जल्द ही आगे बढ़ाया जाएगा और कंपनी की तरफ से हर हाल में इस सौदे को 15 सितंबर, 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा। इस प्रक्रिया के दौरान माइक्रोसॉफ्ट राष्ट्रपति सहित अमेरिकी सरकार संग अपनी बातचीत को जारी रखेगी।

क्या भारत में दोबारा होगी टिकटॉक की एन्ट्री ? 

आपको बतादें कि टिकटॉक अब माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का होने जा रहा है, यानी अमेरिका में टिकटॉक के कारोबार को अब माइक्रोसॉफ्ट संभालने जा रही है। अब माइक्रोसॉफ्ट के सर्वर पर ही टिकटॉक यूजर्स का डाटा सेव होगा। इसके साथ ही अमेरिकी टिकटॉक यूजर्स के डाटा संभालने की पूरी जिम्मेदारी माइक्रोसॉफ्ट की ही होगी।जानकारी के मुताबिक माइक्रोसॉफ्ट टिकटॉक को पांच बिलियन डॉलर्स में खरीदने की तैयारी कर रहा। 

फिलहाल शुरुआती दौर में माइक्रोसॉफ्ट, टिकटॉक के अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बाजारों में व्यापार को डील करेगा, लेकिन इस बात की प्रबल संभावना है कि भारतीय बाजार की जिम्मेदारी भी माइक्रोसॉफ्ट को ही मिल जाए। बतादें कि माइक्रोसॉफ्ट के किसी एप से संबंधित विवाद भारत में अभी नहीं हुआ है। यही वजह है कि टिकटॉक के साथ हो रहे इस समझौते के बाद  माइक्रोसॉफ्ट अपने भरोसे पर भारत में टिकटॉक की एन्ट्री कर सकता है। वहीं सरकार को चीनी सरकार के पास यूजर्स का डाटा जाने का जो डर था वो अब माइक्रोसॉफ्ट के साथ नहीं होगा। 
 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.