भारतीय महिला वकील कर रही है अरब में फंसे भारतीयों की मदद, 2 हजार लोगों की होगी घर वापसी

28 Jun, 2020 12:23 IST|Sakshi
फोटो : सौ, सोशल मीडिया

दुबई : संयुक्त अरब अमीरात (यूएईए) में रहले वाली एक भारतीय महिला वकील कोरोना वायरस की महामारी की वजह से फंसे और नौकरी गवां चुके करीब 2,000 हमवतनों की वापसी के लिए जरूरी कानूनी कागजी प्रक्रिया को मुफ्त में कराकर मदद कर रही हैं। 

स्थानीय मीडिया में शनिवार को प्रकाशित खबर के मुताबिक 41 वर्षीय शीला थॉमस कोविड-19 की वजह से नौकरी गंवा चुके तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश और बिहार के करीब 2,200 कामगारों की स्वदेश वापसी के लिए कानूनी प्रक्रिया पूरी करने में मदद कर रही हैं। 

गल्फ न्यूज से थॉमस ने कहा, ‘‘इन भारतीयों को स्वदेश जाने के लिए कागजी प्रक्रिया पूरी करना अनिवार्य है क्योंकि कई लोगों की वीजा अवधि समाप्त हो गई है जबकि कई लोगों के पासपोर्ट नियोक्ताओं के पास हैं और वे विभिन्न कारणों से इन्हें नहीं लौटा रहे हैं। मैं इन परेशानियों के समाधान की जिम्मेदारी निभा रही हूं।'' 

उल्लेखनीय है कि थॉमस यूएई में गत 25 साल से रह रही हैं और वह निशुल्क आधार पर यह कार्य कर रही हैं। वह मूल रूप से केरल की रहने वाली हैं लेकिन उनकी परवरिश हैदराबाद में हुई। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मोबाइल नंबर वायरल हो गया है। मुझे लगातार मदद के लिए फंसे हुए भारतीयों के कॉल आ रहे हैं और मैं उन्हें मना नहीं कर सकती।'' 

अपने काम के बारे में थॉमस ने बताया कि वह कामगार की स्थिति को समझने की कोशिश करती हैं। नियोक्ताओं से उनके दस्तावेज और पासपोर्ट वापस करने के लिए बात करती हैं ताकि वे अपने घर जा सके। कागजी प्रक्रिया दुरुस्त करवाती हैं ताकि उन्हें विमान में सवार होने के दौरान कोई परेशानी नहीं हो। 

इसे भी पढ़ें : 

देश में कोरोना वायरस से एक दिन में रिकॉर्ड 20 हजार हुए संक्रमित, महाराष्ट्र-दिल्ली में हालात बदतर​

पीएम मोदी बोले- लद्दाख में भारत की भूमि पर आंख उठाने वालों को मिला करारा जवाब

थॉमस ने कहा, ‘‘यह वह जमीन है जिसने मुझे बहुत कुछ दिया और अब यूएई और इसके लोगों को कुछ वापस करने का समय है। ये लोग यूएई के हैं और अभी उन्हें मदद की जरूरत है। गल्फ न्यूज के मुताबिक थॉमस रोजना 300 लोगों के भोजन की व्यवस्था भी कर रही हैं।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.