कोरोना के बाद चीन में फैली नई बीमारी, 3000 से ज्यादा लोग संक्रमित, जानिए कितनी है ये खतरनाक

19 Sep, 2020 16:13 IST|Sakshi
कॉन्सेप्ट फोटो

कैसे फैली यह बीमारी

बीमारी के लिए व्यवस्था

कंपनी का लाइसेंस रद्द, जुर्माना भी

नई दिल्ली : कोरोना वायरस हमले के बाद चीन में एक बार फिर एक नई बीमारी ने दस्तक दे दी है। यह भी लोगों को संक्रमित कर रहा है। एक तरफ जहां कोरोना का कहर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा, वहीं दूसरी तरफ से ब्रूसेलोसिस (Brucellosis) नाम के इस बीमारी ने अभी तक लगभग 3245 लोगों को अपने चपेटे में ले लिया है। उत्तर-पश्चिम चीन के गांसू प्रांत के लान्झोउ में नई बीमारी से लोगों के संक्रमित होने की सूचना मिल रही है। आइये जानते हैं  कि ये नई बीमारी कितना खतरनाक है....

एक रिपोर्ट की मानें तो लान्झोउ वेटरीनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट ने दिसंबर में ही इस बीमारी की सूचना दी थी। खबरों के अनुसार चीन ने गांसू प्रांत में 21,847 लोगों की इस संबंध में जब जांच  किया गया तो पाया कि इनमें 4,646 लोग पॉजिटिव है। जिनमें 3245 लोग गंभीर रूप से संक्रमित थे। जबकि, बाकि लोगों में हल्के लक्षण हैं।

बीमारी के लिए व्यवस्था

चीन की मीडिया की रिपोर्ट की मानें तो ब्रूसेलोसिस बीमारी पर निगरानी रखने का काम लान्झोउ वेटरीनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट ने 11 पब्लिक मेडिकल शैक्षणिक संस्थानों और अस्पतालों को सौंपा है। इन अस्पतालों में इस बिमारी से पीड़ित मरीजों का मुफ्त ईलाज किया जा रहा है। यही नहीं कोरोना की तरह इससे बचने के उपाय भी बताए जा रहे है और लक्षणों के बारे में भी समझाया जा रहा है। 

कैसे फैली यह बीमारी

गांसू प्रोविंशियल सेंटर फॉर डिजीस कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ब्रूसेलोसिस बीमारी की सूचना देते हुए बताया था कि यह बीमारी बैक्टिरिया से होने वाली बीमारियों में से एक है। रिपोर्ट के मुताबिक, 24 जुलाई 2019 से 20 अगस्त 2019 के बीच झोन्गमू लॉन्झोउ बायोलॉजिकल फार्मास्यूटिकल फैक्ट्री द्वारा ब्रूसेला वैक्सीन बनाया जा रहा था। इस दौरान उन्होंने एक्सपायर्ड डिसइंफेक्टेंट का प्रयोग किया। 

इस वैक्सीन का उपयोग जानवरों जैसे भेड़-बकरियों के ईलाज के लिए होता हैं। लेकिन, कारखाने में रखे फर्मेंटेशन टैंक से बेकार डिसइंफेक्टेंट गैस का रिसाव होने लगा। जिसके बाद टैंक को साफ करके उसमे से तरल पदार्थ बाहर निकाला गया। तरल पदार्थ के बाहर आने पर एक प्रकार का बैक्टीरिया उस टैंक में पाया गया, यही हवा में गैस के जरिये फैल रहा था। जो आज ब्रूसेलोसिस बीमारी का कारण बन बैठा है।

कंपनी का लाइसेंस रद्द, जुर्माना भी

जिसके बाद 13 जनवरी 2020 को लॉन्झोउ बायोलॉजिकल फार्मास्यूटिकल फैक्ट्री का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है. कंपनी वैक्सीन तो नहीं बना पा रही साथ ही साथ वहां के आठ लोगों को चीनी सरकार द्वारा जान जोखिम में डालने के लिए सख्त सजा भी दी है।  

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.