वक्री हो रहे मंगल, इन राशियों पर होगा बुरा असर तो इन्हें होगा लाभ

3 Oct, 2020 17:26 IST|मीता
सोशल मीडिया के सौजन्य से

4 अक्टूबर को मंगल हो रहे वक्री 

इन राशियों का शुरू होगा अशुभ समय

ये राशियां होगी मालामाल 

ज्योतिष में ग्रहों का बड़ा महत्व होता है साथ ही इनके राशि परिवर्तन व चाल भी खासी मायने रखती है। जब भी कोई ग्रह राशि परिवर्तन करता है फिर उसकी चाल बदलती है तो इसका असर सभी बारह राशियों पर पड़ता है। हाल ही में शनि ग्रह मार्गी हुए थे और अब मंगल ग्रह 4 अक्टूबर को अपनी चाल बदलने जा रहे हैं। मंगल 4 अक्टूबर को मीन राशि में वक्री चाल चलेंगे और फिर 14 नवंबर को मार्गी होंगे। मंगल देव की वक्री चाल का प्रभाव अधिकतर राशियों के लिए अशुभ हो सकता है।

दरअसल ज्योतिष गणना के अनुसार ऐसा माना जाता है कि ग्रह अपनी वक्री चाल में अशुभ परिणाम देते हैं और मार्गी होने पर शुभ। मंगल ग्रह को साहस, बल, हिंसा, क्रोध आदि का कारक माना जाता है। जिन राशियों के लिए मंगल देव की वक्री चाल शुभ नहीं है उन्हें नौकरी-व्यापार से लेकर कई क्षेत्रों में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। 

तो आइए यहां जानते हैं आपकी राशि पर मंगल की वक्री चाल का प्रभाव कैसा रहेगा ....

मेष- आपको इस समय सब्र से काम लेना होगा। वैवाहिक जीवन में उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है। सेहत के लिहाज से यह समय आपके लिए शुभ नहीं होगा। कार्यक्षेत्र में चुनौतियां आने की संभावना है। मंगल के गोचर अनुसार खर्च अधिक होगा। दुर्घटना की संभावना है, सावधान रहें। भूमि से संबंधित विवादों का सामना करना पड़ेगा। व्यर्थ वाद-विवाद होगा। साहस में कमी आएगी।

वृष- आपको कार्यक्षेत्र से निराशा हाथ लग सकती है। आपको क्रोध बहुत आएगा। आर्थिक चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। जमीन से जुड़े मामलों में लाभ होने की संभावना है। शत्रुओं पर विजय प्राप्त होगी। साहस व पराक्रम में वृद्धि होगी। धनवृद्धि होगी। कार्ट-कचहरी एवं वाद-विवाद में विजय होगी।

मिथुन- इस राशि के जातक को मंगल के गोचर अनुसार धन हानि होगी। कार्यों में असफलता प्राप्त होगी। दुर्घटना की संभावना है। ऑफिस में बॉस के साथ कहासुनी हो सकती है। कार्यक्षेत्र में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। कारोबार में बदलाव के संकेत हैं। पिता की सेहत का ध्यान रखें। चोरी के कारण धन हानि होगी।

कर्क- आपको आर्थिक चुनौतियां आ सकती हैं, तैयार रहें। आपके भाग्य में मंगल की वक्री चाल ग्रहण लगा सकती है। इस अवधि में अपनी सेहत का ख्याल रखें। वाद-विवाद के कारण मानसिक संताप रहेगा। पराक्रम में कमी आएगी। साहस में कमी होगी। माता व मामा से कष्ट होगा।

सिंह- इस राशि के जातक को मंगल के गोचर अनुसार धन हानि होगी। कार्यों में असफलता प्राप्त होगी। गूढ़ विज्ञान में आपकी रुचि बढ़ेगी। पैतृक संपत्ति को लेकर किसी तरह का नुकसान हो सकता है। आपको मिले-जुले परिणाम मिलेंगे। इस समय आपको अप्रत्याशित लाभ भी हो सकता है।

कन्या- आपको मंगल के गोचर अनुसार संतान को कष्ट होगा। धन हानि के योग हैं। शत्रुओं के कारण कष्ट होगा। साझेदारी में व्यापार करना घाटे का सौदा हो सकता है। वैवाहिक जीवन में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जीवनसाथी की सेहत का ध्यान रखें। मानसिक व शारीरिक कष्ट होगा।

तुला- इस राशि के जातक को कार्यस्थल पर काम का दबाव रहेगा। शत्रुओं की संख्या में वृद्धि हो सकती है। सेहत में सुधार हो सकता है। इस दौरान अचल संपत्ति के बढ़ने के भी योग बन रहे हैं। कारोबार में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी रहेगी। 

वृश्चिक- आपके फिजूल के खर्च बढ़ सकते हैं। उच्च शिक्षा को लेकर असमंजस की स्थिति रहेगी। प्रेम संबंध के लिए परिस्थिति ठीक नहीं है। धन हानि के योग हैं। शत्रुओं के कारण कष्ट होगा। स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के कारण कष्ट होगा। मानसिक अवसाद रहेगा।

धनु- आपको मंगल के गोचर अनुसार जमीन-जायदाद संबंधी मामलों में हानि होगी। माता जी की सेहत का ख्याल रखें। माता जी के साथ संबंध मधुर बनाए रखें। सुखों में कमी आ सकती है। नया कार्य शुरू कर सकते हैं। पारिवारिक सुख में कमी के कारण मानसिक अशांति होगी। 

मकर- इस राशि के जातक को मंगल के गोचर अनुसार साहस व पराक्रम में वृद्धि होगी। राज्याधिकारियों से लाभ होगा। कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। संपत्ति से लाभ होगा। शत्रुओं पर विजय प्राप्त होगी। सेना, पुलिस व अग्निशमन सेवाओं से जुड़े व्यक्तियों की पदोन्नति होगी। मानसिक बेचैनी का सामना करना पड़ सकता है। आपके साहस और पराक्रम में कमी आएगी। समझदारी से काम लें।

कुंभ- आपको मंगल के गोचर अनुसार साहस में कमी आएगी। धन नाश होगा। कार्यों में असफलता प्राप्त होगी। किसी के साथ झगड़ा होने की आशंका है। कुटुंब में परिजनों के बीच विवाद की स्थिति देखने को मिल सकती है। धन की बचत कर पाना मुश्किल होगा। व्यापार में लाभ होगा। 

मीन- मीन राशि वाले जातकों को मंगल के गोचर अनुसार कार्य असफल होंगे। दुर्घटना के कारण कष्ट होगा। अग्नि व रक्त विकार के कारण कष्ट होगा। शत्रुओं से कष्ट की प्राप्ति होगी। मन उदास रहेगा। जीवनसाथी से मतभेद उभरेंगे। कार्यक्षेत्र में भी चुनौती का सामना करना पड़ सकता है। इस अवधि में मानसिक परेशान हो सकते हैं। 

मंगल के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए करें ये खास उपाय ....

- मंगलवार के दिन 250 ग्राम बताशे बहते जल में प्रवाहित करें।
- मंगलवार को किसी से कोई भेंट स्वीकार ना करें।

- प्रत्येक मंगलवार हनुमान जी को सिंदूर अर्पण कर हनुमान चालीसा का पाठ करें।

- लाल वस्त्रों का प्रयोग ना करें।

- मंगल यंत्र की नित्य पूजा करें।

- मंगलवार के दिन मंगल का दान करें। 
दान सामग्री- लाल वस्त्र, गुड़, मूंगा, मसूर की दाल, तांबा, रक्त चंदन, लाल पुष्प आदि।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.