GHMC Elections 2020 : 45.71 फीसदी वोटिंग दर्ज, 3 को ओल्ड मलकपेट में रिपोलिंग

2 Dec, 2020 07:53 IST|संजय कुमार बिरादर
कॉंसेप्ट इमेज

सरकार और पुलिस प्रशासन ने ली राहस की सांस

इस बार भी मतदान के लिए घरों से नहीं निकले वोटर

ओल्ड मलकपेट में भाकपा के चुनाव चिन्ह में गड़बड़ी

10 फरवरी के बाद ही मेयर और डिप्टी मेयर का चयन 

4 को वोटों की गिनती और चुनाव नतीजे

हैदराबाद : ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव (GHMC Elections 2020) में 45.71 फीसदी वोटिंग दर्ज हुई है। आंध्र प्रदेश राज्य चुनाव आयोग के मुताबिक मतदान से जुड़ी विस्तृत जानकारी बुधवार को घोषित की जाएगी। कुछ डिवीजनों में न्यूनतम 25 फीसदी से भी कम मतदान दर्ज होने की खबर है। साल 2016 में हुए जीएचएमसी चुनाव में 45.29 फीसदी वोटिंग हुई थी।

जीएचएमसी के 149 डिवीजनों में मंगलवार सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक मतदान कराया गया और ये मतदान बहुत ही धीमी रहा। कोरोना के डर के साथ पार्टियों व नेताओं के रवैये को लेकर राय स्पष्ट नहीं होने से अधिकांश लोगों ने वोट देने में रुचि नहीं दिखाई। विभिन्न डिवीजनों में चुनाव लड़ रहे 1,122 उम्मीदवारों की किस्मत मतपेटियों में बंद हो गई है। पुलिस सुरक्षा के बीच मतपेटियां स्ट्रांग रूम तक भेजे गए। इस महीने की 4 तारीख को सुबह 8 बजे से वोटिंग शुरू होगी।

ओल्ड मलकपेट में रिपोलिंग
ओल्ड मलकपेट डिवीजन (नंबर 26) में भाकपा उम्मीदवार के चुनाव चिन्ह में गड़बड़ी होने और भाकपा द्वारा आपत्ति व्यक्त किए जाने से राज्य चुनाव आयोग ने इस डिवीजन में 3 दिसंबर को चुनाव कराने का निर्णय लिया। इस एक घटना को छोड़कर दिनभर मतदान शांतपूर्ण ढंग से चलता रहा। इस बीच, राज्य चुनाव आयोग ने 3 दिसंबर को ओल्ड मलकपेट में रिपोलिंग होने के मद्देनजर उस दिन शाम 6 बजे तक एग्जिट पोल्स के नतीजों की घोषणा पर प्रतिबंध लगा दिया है।

10 फरवरी के बाद ही...

वर्तमान जीएचएमसी प्रशासनिक बोर्ड का कार्यकाल 10 फरवरी 2021 तक है। उसके बाद ही नवनिर्वाचित कार्पोरेटरों का शपथ ग्रहण और मेयर व डिप्टी मेयरों का चयन होगा। इस बीच, सरकार के कानून संशोधन करने की स्थिति में समय से पहले ही मेयर और डिप्टी मेयर के चुने जाने की संभावना है। पर उन्हें भी 10 फरवरी के बाद ही कार्यभार संभालेंगे। हालांकि सरकारी सूत्रों के मुताबिक सरकार ने इस बाबत अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया है। 10 फरवरी तक इंतजार करने से दूसरी पार्टियां नवनिर्वाचित कार्पोरेटरों को प्रलोभन देकर अपनी ओर खींच सकती है। ऐसे में सरकार कानून संशोधन के जरिए पहले ही चुनाव करा सकती है।

क्या डर से वोटर घरों से नहीं निकले ?
आम चुनाव की तर्ज पर सभी प्रमुख राजनीतिक पार्टियों का प्रचार करना, व्यक्तिगत आरोप-प्रत्यारोप, भड़काऊ बयानबाजी और जगह-जगह झड़प की घटनाओं के अलावा मतदान के दिन अप्रिय घटनाओं की आशंका और तनाव को देखते हुए अधिकांस लोग वोट देने के लिए घरों से बाहर नहीं निकले। हालांकि छिट-पुट घटनाओं को छोड़कर पूरे शहर में मतदान शांतिपूर्ण ढंग से पूरे होने पर सरकार और पुलिस प्रशासन ने राहत की सांस ली है। कोरोना के डर के बावजूद 48 हजार मतदान कर्मी और 52,500 पुलिसकर्मी तैनात थे।

इसे भी पढ़ें : 

GHMC Elections 2020: वोटिंग से जुड़ी हर खबर और अपडेट्स, लंगरहाउस में सबसे कम रहा मतदान का प्रतिशत

Related Tweets
Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.