GHMC Elections 2020 : रिजल्ट से पहले नेताओं के अपने-अपने दावे, जानिए किसको है कितनी सीटों पर भरोसा

2 Dec, 2020 12:29 IST|संजय कुमार बिरादर
कॉसेप्ट इमेज

क्या शतक जमा पाएगी टीआरएस...

कांग्रेस की रेस कहा तक ?

क्या पुराने शहर में फिर पतंग (MIM) ही उड़ेगा...?

हैदराबाद : ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव (GHMC Elections 2020) में वोटिंग खत्म हो जाने से राजनीतिक पार्टियां अब हार-जीत के आकलन में जुट गई हैं। हर पार्टी जीत का दावा कर रही है। सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) के नेता एक बार फिर मेयर की कुर्सी पर उनका कब्जा होने और इस बार 100 से अधिक सीटों पर जीत  का दावा कर रहे हैं। उनका कहना है कि वोटिंग ट्रेंड और लोगों की राय भी हमारे पक्ष में है।  टीआरएस को मुख्य रूप से वोटिंग ट्रेंड पर काफी उम्मीदें हैं। 

दूसरी तरफ, ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में भी दुब्बाका के रिजल्ट्स दोहराने के भरोसा जताते हुए भाजपा भी अधिकांश सीटों पर जीत का दावा कर रही है। पार्टी के नेताओं का कहना है कि सरकार विरोधी लहर से उन्हें फायदा मिलेगा और 50 ज्यादा सीटों पर पार्टी की जीत होगी। इस बीच, कांग्रेस पार्टी के नेता भी जीत का दावा कर रहे हैं।

जीएचएमसी चुनाव में टीआरएस और भाजपा के मुकाबले पीछे होने के बावजूद कम से कम 20 सीटों पर जीतने का दावा किया जा रहा है। गांधी भवन के सूत्रों के मुताबिक मल्काजगिरी संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में अच्छे परिणाम मिलने की उम्मीद जताई है। एमआईएम को हर बार की तरह पुराने शहर पर इस बार भी अपना कब्जा बरकरार रखने का विश्वास जाहिर कर रही है। वामदलों, अन्य पार्टियों व निर्दलीय उम्मीदवार भी जीत के दावे ठोक रहे हैं।


क्या शतक जमा पाएगी टीआरएस...

जीएचएमसी चुनाव को प्रतिष्ठा के तौर पर ले चुकी टीआरएस फिर से मेयर की कुर्सी पर कब्जे का दावा कर रही है।  पार्टी का मानना है कि मतदान का प्रतिशत घटने के बावजूद पिछली बार की तरह 100 से अधिक डिवीजनों में उसकी जीत पक्की है। मंगलवार सुबह ही अपना वोट डाल चुके टीआरएस कार्यकारी अध्यक्ष केटीआर ने अपने आवास स्थित वार रूम से ही पार्टी के उम्मीदवारों, डिवीजन प्रभारियों के साथ मतदान के रुझानों पर समीक्षा की।

किस डिवीजन में क्या स्थिति है, इसकी जानकारी हासिल करने के साथ ही उन्होंने खास करके भाजपा से कड़ी टक्कर रहने वाले डिवीजनों में जारी वोटिंग के बारे में जानकारी हासिल की। हालांकि पूरे नगर में वोटिंग का प्रतिशत कम होने की खबर के अनुरूप उम्मीदवारों व डिवीजन प्रभारियों को सतर्क कर दिया। पार्टी की पकड़ वाली बस्तियों व कॉलोनियों से लोगों को पोलिंग बूथ तक ले जाने का निर्देश दिया। टीआरएस नेताओं का मानना है कि डाले गए वोट में अधिकांश टीआरएस के पक्ष पड़े हैं।

जनता हमारे साथ....

भाजपा नेता इस बार ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में जनता उनके साथ होने का दावा कर रहे हैं। कम मतदान होने के बावजूद डाले गए वोट भाजपा के पक्ष में जाने और टीआरएस के खिलाफ वोटरों द्वारा मतपेटियां भरी गई हैं। प्रदेश भाजपा के मुख्य नेता सार्वजनिक तौर पर 100 सीटों का दावा कर रहे हैं, लेकिन उन्हें कम से कम 50 से अधिक डिवीजनों पर जीत का भरोसा है।

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बंडी संजय सहित मुख्य नेताओं जी. किशन रेड्डी, के. लक्ष्मण, डी.के. अरुणा, धर्मपुरी अरविंद आदि मतदान पर समय-समय पर डिवीजनवार जानकारी हासिल करते हुए उम्मीदवारों को जरूरी दिशा-निर्देश देते रहे और जीत की संभावना वाले पोलिंग बूथों पर वोटिंग खत्म होने तक नजर गिड़ाए रखने की सलाह दी। हालांकि मतदान घटने की वजह से क्या होगा, इसको लेकर भाजपा नेताओं में एक तरह का टेंशन भी देखा जा रहा है। भाजपा नेता इस बात से डरे हुए हैं कि युवाओं व शिक्षविदों के वोट बड़ी संख्या में पोन नहीं होने से पार्टी के नुकसान पहुंच सकता है।


क्या शतक जमा पाएगी टीआरएस...
लोगों में इस बात को लेकर चर्चा छिड़ी हुई है कि राज्य में एक के बाद एक चुनाव हारने वाली कांग्रेस पार्टी जीएचएमसी चुनाव में कितना कमाल कर पाएगी। वोटिंग ट्रेंड्स की समीक्षा करने के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता 15 से 20 सीटों पर जीत का दावा कर रहे हैं। पार्टी नेताओं का कहना है कि सांसद रेवंत रेड्डी के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र मल्काजगिरी स्थित 47 और चेवेल्ला के दायरे में आने वाले 18 डिवीजनों में कांग्रेस  पार्टी कडी टक्कर देगी। यही नहीं, कोर सिटी में कुछ डिवीजनों में कांग्रेस के पक्ष में वोटिंग हुई है।

क्या पुराने शहर में फिर पतंग (MIM) ही उड़ेगा...?
पुराने हैदराबाद में मजबूत पकड़ रखने वाली एमआईएम फिर से अपनी जीत को लेकर निश्चित दिखाई दे रही है। एमआईएम का कहना है कि पिछली बार उनके पास 44 सीटें थी और इस बार उससे अधिक सीटें जीतना तय है। पार्टी सुप्रीमो असदुद्दीन ओवैसी और अकबरुद्दीन ओवैसी ने वोटिंग ट्रेंड्स की समीक्षा कर पार्टी कैडर को अलर्ट किया है। दूरुस्सालम में पुराने शहर में पहली की तरह पकड़ बरकरार रहने का दावा किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें : 

GHMC Elections 2020 : 45.71 फीसदी वोटिंग दर्ज, 3 को ओल्ड मलकपेट में रिपोलिंग

उसी तरह, 29 सीटों पर चुनाव लड़ने वाले भाकपा, मकापा हित 26 जगहों पर चुनाव मैदान में उतरी टीजेएस भी इस बार कड़ी टक्कर देने का दावा कर रहे हैं। निर्दलीय उम्मीदवार भी चुनावी दंगल में कड़ी टक्कर देकर जीतने का दावा कर रहे हैं। हर कोई अपने-अपने डिवीजनों में डाले गए कुल वोट्स में कितने अपने अनुकूल है, उसका आकलन कर रहे हैं। अंत में क्या होगा... राजनीतिक पार्टियों का भविष्य कैसे रहेगा, इसका फैसला इस महीने की 4 तारीख को होने वाला है।
 

Related Tweets
Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.