Chhath Puja 2020: जानिए कौन हैं छठी मईया, क्या है भगवान सूर्य से रिश्ता?

19 Nov, 2020 22:51 IST|Sakshi
सूर्य भगवान को अर्घ्य देती महिला

छठी मईया की पूजा संतान प्राप्ति के लिए होती है

आसान भाषा में छठी मईया कहकर पुकारते हैं

नई दिल्ली: छठ पर्व में सूर्य भगवान की पूजा की जाती है फिर भी इसे सूर्य पूजा कहने की बजाय छठ पर्व (Chhath Puja) के नाम से जाना जाता है। छठ पर्व के गीतों और भजनों में भी छठ पर्व में भगवान सूर्य (Lord Surya) की पूजा की जाती है, लेकिन फिर भी इसे छठी मैया (Chhathi Maiya) का त्योहार कहा जाता है। आखिर छठी मईया और भगवान सूर्य से रिश्ता क्या है, आइये जानते हैं।

कार्तिक महीने की षष्टी को छठ का त्योहार मनाया जाता है। षष्ठी मईया को बिहार के लोग आसान भाषा में छठी मईया कहकर पुकारते हैं। मान्यता है कि छठ पूजा के दौरान पूजी जाने वाली छठी मईया (Chhathi Maiya) भगवान सूर्य की बहन हैं। इसीलिए लोग भगवान सूर्य को प्रसन्न करते हैं।

छठी मईया की पूजा संतान प्राप्ति के लिए भी की जाती है। इस वर्त को खासकर वह लोग करते हैं जिन्हें संतान प्राप्ति नहीं होती है। बाकि सभी लोग अपने बच्चों के अच्छे भविष्य और सुख समृद्धि के लिए छठ मनाते हैं। इसके अलावा मां दुर्गा के कात्यायनी देवी को भी छठ माता का ही रूप माना जाता है। 

यह भी पढ़ें: Chhath puja 2020: कठिन व्रतों में से एक है छठ महापर्व, संतान प्राप्ति का मिलता है वरदान, पूरी होती है मनोकामना

माना जाता है कि छठ मैया के प्रसन्न होने से संतान सुख की प्राप्ति होती है। छठ मैया के इन्हीं गुणों के कारण सूर्य पूजा को छठ पर्व के रूप में मान्यता मिली।
 


 

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.