सोनू सूद ने फिर बढ़ाया मदद का हाथ, दोनों घुटने गंवा चुकी युवती को उसके पांव पर खड़ा किया, चलाया

14 Aug, 2020 11:34 IST|Sakshi
सोनू सूद

सोनू की टीम ने सीधे पहुंचाया अस्पताल

सड़क दुर्घटना में नष्ट हो गए थे दोनों घुटने

अपने पैरों पर खड़े होना और चलना, संभव

गोरखपुर: एक बार फिर अभिनेता सोनू सूद ने यह साबित कर दिया है कि जरूरतमंदों की मदद के लिए वह हर वक्त तैयार रहते हैं। ताजा उदाहरण उत्तर प्रदेश के गोरखपुर की 22 वर्षीय लॉ छात्रा का है, एक दुर्घटना में जिसके दोनों घुटने बेअसर हो चुके थे, लेकिन सोनू ने उसके फिर से नई जिंदगी दे दी।

अपने पैरों पर खड़े होना और चलना, बनाया संभव

प्रज्ञा नाम की 22 वर्षीय इस युवती की जिंदगी बिस्तर पर पड़ेपड़े ही गुजर रही थी। हालांकि गुरुवार का दिन प्रज्ञा के लिए बिल्कुल अलग सा था क्योंकि सर्जरी के बाद वह वॉकर के सहारे धीरे-धीरे खुद से कुछ कदम चलने लगी थी। इस नजारे को देखकर उसके परिवारवाले अभिनेता सोनू सूद को दुआ देते नहीं थक रहे थे, जिन्होंने इसे संभव बनाया।

सड़क दुर्घटना में नष्ट हो गए थे दोनों घुटने

लड़की के पिता विजय मिश्रा गोरखपुर के पादरी बाजार इलाके में एक पुरोहित हैं। उन्होंने कहा, "प्रज्ञा फरवरी में एक सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गई थी और उसके दोनों घुटने नष्ट हो गए थे। स्थानीय चिकित्सकों ने कहा था कि सर्जरी ही इसे ठीक करने का एकमात्र विकल्प है, जिसमें करीब 1.5 लाख रुपये का खर्च आएगा। इसे करा पाना हमारे बस के बाहर था और अधिकतर रिश्तेदारों ने भी कोई मदद नहीं की।"

घुटने की रिप्लेसमेंट सर्जरी करवाई

लॉ की पढ़ाई कर रही प्रज्ञा ने इस संदर्भ में कुछ नेताओं से मदद मांगने का प्रयास किया, लेकिन बात नहीं बनी। "अगस्त के पहले हफ्ते में उसने अभिनेता सोनू सूद को मदद के लिए ट्वीट किया और उन्होंने एक सर्जन से बात करने के बाद जवाब दिया और उसे दिल्ली बुलाया।" बुधवार को गाजियाबाद में उसके घुटने की रिप्लेसमेंट सर्जरी सफलतापूर्वक हुई। प्रज्ञा के पिता ने कहा कि सबकुछ सामान्य है और उसे दो से तीन दिनों में छुट्टी दे दी जाएगी।

सोनू की टीम ने सीधे पहुंचाया अस्पताल

उन्होंने कहा, "ट्रेन के टिकट से लेकर सारा बंदोबस्त सोनू सूद ने ही किया। जब हम दिल्ली पहुंचे, रेलवे स्टेशन पर उनकी टीम ने हमसे मुलाकात की और हमें वहां से सीधे अस्पताल लेकर गए।" प्रज्ञा उनके बारे में कहती हैं, "मेरे लिए, सोनू सूद भगवान हैं। मैंने फैसला किया है कि जब मैं पैसे कमाने लगूंगी तो मैं उन बच्चों की मदद करूंगी, जिनकी पढ़ाई छूट गई है।"
-आईएएनएस

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.