फिरोज खान : ऐसा सितारा, जिसकी पाकिस्तान में एंट्री थी बैन

24 Sep, 2020 19:52 IST|अनूप कुमार मिश्रा
अभिनेता फिरोज खान (फाइल फोटो)

मुंबई : बॉलीवुड के डैसिंग, फैशनेबल और कूल एक्टर की जब भी बात होती है तो जो फिरोज खान का नाम सबकी जुबान पर आता है। 70 के दशक में फिरोज खान की स्टाइल को फॉलो करने वालों की काफी लंबी तादात थी। फिल्म इंडस्ट्री को कई यादगार फिल्में देने वाले फिरोज खान का जन्म 25 सितंबर को हुआ था। जन्मदिन से पहले हम उनकी जिंदगी की कई ऐसी बातें आपको बता रहे हैं, जो बेहद दिलचस्प है।    

फिरोज खान का जन्म एक पठान परिवार में 25 सितंबर 1939 को बेंगलोर में हुआ था। फिरोज खान 70 के दशक में फिल्म इंडस्ट्री के सबसे फैशनेबल एक्टर माने जाते थे। फिरोज खान हीरो के तौर पर जितने सफल हुए, उससे कहीं ज्यादा उनकी विलेन की भी भूमिका काफी सराही गई। फिरोज खान के किरदार की खासियत होती थी कि वह पर्दे पर जीवंत कर देते थे।

किसी राजकुमार से कम नहीं थी फिरोज की जिंदगी

फिरोज खान किसी राजा जैसी शाही जिंदगी जीने में विश्वास रखते थे। नाइट क्लब में देर रात तक पार्टियां करना फिरोज का शौक था। उनकी पार्टी में बॉलीवुड की बड़ी-बड़ी सेलिब्रिटीज शामिल होती थेी। शादी से पहले फिरोज खान काफी रंगीन मिजाज के माने जाते थे। फिरोज का एक अलग ही अंदाज था और वे बॉलीवुड की  ड्रीम गर्ल यानि कि हेमा मालिनी को बेबी कहकर बुलाते थे और उनका ऐसे बुलाना हेमा को बुरा नहीं लगता था।

विनोद खन्ना से थी गहरी दोस्ती 

उस समय फिरोज खान की तुलना हॉलीवुड के मशहूर एक्टर क्लिंट ईस्टवुड से की जाती थी। उनके बारे में कहा जाता है कि फिरोज खान काफी दिलदार थे और जिससे दोस्ती करते थे दिल से निभाते थे।  उनके दोस्तों में मशहूर एक्टर विनोद खन्ना भी थे। दोनों की दोस्ती का एक इत्तेफाक ये भी था कि दोनों ही कलाकार का निधन एक ही तारीख को हुआ था। जहां एक तरफ फिरोज खान की डेथ 27 अप्रैल, 2009 में हुई थी। वहीं दूसरी तरफ विनोद खन्ना का निधन 27 अप्रैल 2017 को हुआ था। 

इन फिल्मों में साथ काम चुके हैं दोनों

फिरोज खान और विनोद खन्ना फिल्म दयावान, कुर्बानी और शंकी शंम्भू में साथ नजर आए थे। साल 1980 में आई फिल्‍म 'कुर्बानी' ने विनोद खन्‍ना के खाते में एक और हिट फिल्म ला दी थी। इस फिल्म में फिरोज खान निर्माता, निर्देशक और एक्टर तीनों भूमिका में थे। इस फिल्म के बाद फिरोज खान और विनोद खन्ना की दोस्ती गहरी हो गई थी। 

पाकिस्तान में फिरोज की एंट्री पर लग गया था बैन

बताया जाता है कि एक बार फिरोज खान पड़ोसी देश पाकिस्तान पहुंचने पर काफी विवादों में आ गए थे। दरअसल, पाकिस्तान में वे अपनी फिल्म के प्रचार के लिए पहुंचे थे। फिरोज से भारत में मुसलमानों की खराब हालत को लेकर सवाल किया गया था। जिसपर फिरोज खान ने अपने जवाब में कहा था, 'भारत धर्म निरपेक्ष देश है। हमारे यहां मुसलमान प्रगति कर रहे हैं। हमारे राष्ट्रपति मुस्लिम हैं, प्रधानमंत्री सिख हैं। पाकिस्तान इस्लाम के नाम पर बना था, लेकिन देखिए यहां उनकी कैसी हालत है। एक-दूसरे को मार रहे हैं।' ये साल 2006 की बात है। उस समय मनमोहन सिंह भारत के प्रधानमंत्री थे और राष्ट्रपति के पद पर एपीजे अब्दुल कलाम थे। कहा जाता है कि इस कार्यक्रम के बाद पाकिस्तान में उन पर बैन लगा दिया गया था। 

लिव इन में रहे 10 साल

फरोज ने 1965 में सुंदरी से शादी की थी। इसके बाद उनकी मुलाकात एयर होस्टेस ज्योतिका धनराजगिर से हुई। ज्योतिका राजा महेंद्रगिर धनराज गिर की बेटी हैं। ज्योतिका को देखते ही फिरोज उनको दिल दे बैठे। जब ज्योतिका से अफेयर की बात उनकी वाइफ को पता चली तो उन्होंने इसका विरोध किया तब फिरोज, सुंदरी और अपने बच्चों को छोड़कर ज्योतिका के साथ बेंगलुरु में जाकर लिव-इन में रहने लगे थे। 10 साल तक दोनों एक साथ रहे। लेकिन एक दिन दोनों का रिश्ता टूट गया।

बॉलीवुड में लेडी किलर के नाम से मशहूर फिरोज खान ने चार दशक लंबे सिने करियर में लगभग 6० फिल्मों में अभिनय किया। अपने विशिष्ट अंदाज से दर्शकों के बीच खास पहचान वाले फिरोज खान 27 अप्रैल 2009 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.