शारदीय नवरात्रि 2020 : नौ दिनों में करें इन नियमों का पालन, भूलकर भी न करें ये गलतियां

17 Oct, 2020 11:34 IST|मीता
नवरात्रि के नियम

शारदीय नवरात्रि के खास नियम 

नवरात्रि में न करें ये गलतियां 

शारदीय नवरात्रि 17 अक्टूबर से शुरू हो गई है। नवरात्रि की मां दुर्गा प्रमुख देवी हैं। मां के नौ रूपों की आराधना और उपासना के लिए नवरात्रि का पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इन दिनों में नौ दिनों तक व्रत रखने का विधान है।

इस बार नवरात्रि पर विशेष संयोग बन रहा है। जिस अवसर पर मां भगवती को मनाने या खुश करने के तैयारियां हर घर में बड़े जोर-शोर से चल रही है। इनके आगमन के लिए लोग नौ दिन का व्रत भी रखते हैं। इन नौ दिनों में मां भगवती की पूजा के समय आप कोई भी ऐसी गलती ना करें जो आपके लिए घातक सिद्ध हो, इसके लिए जरूरी है कि आप इन बातों को जान लें।


आप नवरात्रि से जुड़े इन नियमों को पहले से ही पूरी तरह से जान कर इनका पालन करें ताकि नवरात्रि की पूजा सार्थक हो जाए।

नवरात्रि में न करें ये गलतियां ...

- नवरात्रि के दौरान व्रत करने वाले लोग अपनी दाढ़ी-मूंछ एवं बाल को कटवाने से दूर रहें।

- यदि आपने अपने घर पर कलश स्थापित किया है तो पूरे दस दिनों तक अखण्ड जोत जलाते हुए उस स्थान को खाली ना छोड़ें।

- नौ दिन तक घर पर तामसी भोजन का सेवन बिल्कुल ना करें, इन दिनों आप सात्विक भोजन बनाएं। अपने घर पर लहसुन प्याज के सेवन से दूर रहें।

- व्रत करने वाले व्यक्ति इन दिनों अनाज का सेवन ना करें बल्कि फलाहार करें।

- पुराण के अनुसार ऐसा माना गया है कि नवरात्रि के व्रत के समय मां देवी की पूजा भक्ति के समय में दिन के समय में सोना वर्जित है।

- व्रत के समय में मांस-मदिरा, एवं तम्बाकू का सेवन पूर्ण रूप से वर्जित है।

- व्रत के दौरान ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करें। पूरी साफ-सफाई के साथ इस व्रत का पालन करें।

- महिलाओं को पीरियड्स के समय में मां भगवती की पूजा से दूर रहना चाहिए, यहां तक कि इन दिनों में 5 से 6 दिनों तक पूजन वर्जित किया गया है।

इन नियमों का पालन करें ...

- व्रत के समय में आपको फलाहार का सेवन करना चाहिए, इसके लिए आप अपने खाने में समारी चावल, सिंघाड़े का आटा, कुट्टू का आटा, साबूदाना, के साथ मूंगफली, सेंधा नमक, आलू, फल, मेवे, का प्रयोग करना चाहिए।

- मां देवी की पूजा करने के लिए ब्रह्ममुहूर्त में स्नान कर पूजन करना चाहिए क्योंकि सूर्योदय के पहले पूजा करने से देवी मां प्रसन्न होती हैं।

- इन नौं दिनों तक हर देवी की पूजा करके उनके अनुरूप भोग लगाएं एवं उनकी पूजा करें।

- इन नौ दिनों तक हर देवी की पूजा करने के लिए हर एक देवी के अनुरूप उन्हें फूल अर्पित करें। ऐसा करने से देवी मां प्रसन्न होती हैं।

- चंदन, तुलसी या रुद्राक्ष की माला का उपयोग कर नौ दिनों तक जाप करें।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.