पैसों की लेन-देन को लेकर की थी हत्या, पुलिस की गिरफ्त में आया रियल इस्टेट व्यापारी

12 Jan, 2021 14:33 IST|Sakshi
प्रतीक तस्वीर

हैदराबाद: पैसों के लेन-देन को लेकर 10 जनवरी की रात पीवीएनआर एक्सप्रेस वे पिलर नंबर 248 के पास सरेआम रियल इस्टेट (Real Estate) व्यापारी व फाइनांसर मोहम्मद खलील (33) की हत्या करने वाले तीन लोगों को राजेंद्र नगर पुलिस (Rajendra Nagar Police) ने गिरफ्तार कर​ लिया। पुलिस ने उनके पास से 1 ऑटो, 2 चाकू, लोहे की सलाखों को जब्त कर लिया।

शमशाबाद पुलिस उपायुक्त एन.प्रकाश रेड्डी ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बताया  कि एमएम पहाड़ी, राजेंद्र नगर निवासी मोहम्मद ख्वाजा हुसैन के पुत्र मोहम्मद खलील की हत्या के मामले में एमएम पहाड़ी निवासी गरीब नवाज होटल के मालिक शेख रशीद (29), होटल के कर्मचारी मोहम्मद अजमद (28) और होटलकर्मी सय्यद इमरान (27) को गिरफ्तार कर लिया गया।

रियल इस्टेट का व्यापार

उन्होंने बताया कि मृतक मोहम्मद खलील रियल इस्टेट का व्यापार करने के अलावा फायनांस का भी व्यापार करता था। होटल संचालक शेख रशीद ने लॉकडाउन के पहले होटल की मरम्मत के लिए खलील के पास से 15 लाख रुपये कर्ज लिया था और लॉकडाउन के दौरान होटल बंद रहने के बावजूद वह मासिक ब्याज की किश्त का भुगतान कर रहा था।

लॉकडाउन में होटल बंद रहने के कारण वह आर्थिक तंगी से परेशान था। खलील के अलावा अन्य कुछ लोगों से उसने कर्ज ले रखा था। हाल ही में उसने आर्थिक तंगी दूर करने के लिए खलील से 50 लाख रुपये और कर्ज देने का आग्रह किया। खलील कर्ज देने के लिए तैयार हो गया, लेकिन उसने कर्ज चुकता होने तक होटल उसे सौंपने की शर्त रखी, जिसके लिए रशीद राजी नहीं हुआ।

रशीद पर दबाव डाल रहा था

इस कारण शर्त न मानने पर खलील 15 लाख रुपये तुरंत वापस करने के लिए रशीद पर दबाव डाल रहा था। इस कारण रशीद परेशान हो गया और उसकी आर्थिक स्थिति इतनी खराब थी कि वह खलील से लिया हुआ कर्ज अदा नहीं कर पा रहा था।

कर्ज अदायगी को लेकर खलील के लगातार दबाव डालने से रशीद ने उसे रास्ते से हटाने की ठान ली।इसके लिए उसने अपने होटल में कार्यरत एमएम पहाड़ी निवासी मोहम्मद अजमद और सय्यद इमरान को खलील की हत्या करने के लिए राजी कर लिया।

चारमीनार के पास दुकान

सोची-समझी साजिश के तहत रशीद और अजमद ने चारमीनार के पास दुकान से दो चाकू और दो लोहे की सलाखें खरीदीं। इसके बाद रशीद की हत्या करने के लिए मौके की तलाश में जुट गए। 10 जनवरी को दोपहर के समय खलील ने होटल पर आकर दिया गया कर्ज अदा करने के लिए रशीद से बहस की और रशीद ने उसे शाम तक पैसा लौटाने का आश्वासन दिया।

इस आश्वासन पर खलील वापस लौट गया। खलील के जाते ही रशीद ने अपने दोनों कर्मचारियों को बुलाकर खलील की हत्या करने की योजना बनाई। योजना को अंजाम देते हुए रात 10 बजे रशीद और अजमद ऑटो से एचएफ कन्वेंशन हॉल पहुंच गए और खलील को फोन कर उसे पैसे लेने के लिए फंक्शन हॉल के पास बुलाया।

सफेद रंग की होंडा एक्टिवा

रात 11.15 बजे खलील सफेद रंग की होंडा एक्टिवा पर फंक्शन हॉल पहुंचा, जहां पर तीनों ऑटो में लोहे की सलाखें, चाकू और सीमेंट की ईंटों के साथ खलील को ठिकाने लगाने के लिए तैयार खड़े थे। खलील के आते ही रशीद ने उससे बातचीत की और इस दौरान अजमद और इमरान ने पीछे से लकड़ियों से खलील पर अचानक हमला कर दिया।

​हमला होते ही खलील अपने आपको बचाने के लिए भागने लगा। तीनों हत्यारों ने उसका पीछा किया। पिलर नंबर 248 के पास खड़े ऑटो में से रशीद ने सीमेंट की ईंट निकालकर पीछे से खलील के सिर पर मार दी। सिर पर ईंट लगते ही खलील का सिर फट गया और वह घायल होकर गिर गया।

सलाख व चाकुओं से ताबड़तोड़ हमला

इसके बाद तीनों ने नीचे गिरे खलील पर लोहे की सलाख व चाकुओं से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। इस नृशंस हमले में खलील की मौके पर ही मौत हो गई ओर इस हत्याकांड का कुछ लोगों ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में पोस्ट किया, जो तेजी से वायरल हो गया।

खलील को मार डालने के बाद तीनों उसकी एक्टिवा पर जलपल्ली फरार हो गए और एजी कॉलेज कैंपस के पास खून से सने कपड़े बदल लिए। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने खलील के शव को बरामद कर उसे पोस्टमार्टम के लिए उस्मानिया अस्पताल के मुर्दाघर भेज दिया।

राजेंद्र नगर पुलिस इंस्पेक्टर सुरेश कुमार ने त्वरित कार्रवाई कर आज तड़के तीनों हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया। तीनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया गया। अदालत में पेश कर उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.