गुंटूर सरकारी अस्पताल में कोरोना इंजेक्शन्स की चोरी, वार्ड ब्यॉय सस्पेंड

22 Sep, 2020 10:33 IST|संजय कुमार बिरादर
कॉसेप्ट इमेज

अस्पताल के मेडिकल स्टोर्स में नहीं है सीसी कैमरे

हर इंजेक्शन की कीमत 5 हजार रुपए से ज्यादा 

ड्रग कंट्रोल अधिकारियों से घटना की शिकायत

गुंटूर :  जिला सरकारी अस्पताल (GGH) में कोरोना इंजेक्शन्स चोरी होने का मामला सामने आया है। कोरोना मरीजों के इलाज के लिए लाए गए महंगे इंजेक्शन्स  यहां काम करने वाले कर्मचारी चुरा ले गए। इससे रोगी और स्थानिय लोग गुंटूर सरकारी मेडिकल कॉलेज (जीजीएच) में दवाइयों की सुरक्षा नहीं होने का आरोप लगा रहे हैं। हॉस्पिटल मेडिकल स्टोर विभाग के कार्यरत एक वार्ड ब्यॉय रविवार को वहां के अन्य कर्मचारियों की आंख में धूल झोंक कर महंगे इंजेक्शनों का एक बॉक्स उठा ले गया। बाद में उन इंजेक्शन्स को बाहर एक मेडिकल स्टोर में बेच दिया।

इस घटना से अस्पताल के उच्चाधिकारियों को झटका लगा है। अस्पताल में मेडिकल स्टोर विभाग अत्यंत महत्वपूर्ण  होता है। महंगी दवाइयां स्ट्रेचर और पहियों वाली कुर्सियों पर रखकर वहां से वार्ड ब्यॉय और स्टॉफ नर्स मरीजों के वार्ड तक ले जाया करते हैं। इस स्टोर्स में सीसी कैमरों की व्यवस्था नहीं है।

ऐसे में मेडिकल स्टोर्स से वार्ड ब्यॉय के इंजेक्शनों का बॉक्स बाहर ले जाने की खबर न वहां के सुरक्षाकर्मी जानते थे और ना ही मेडिकल स्टोर्स के कर्मचारियों को थी।  वार्ड ब्यॉय द्वारा चुराए गए इंजेक्शन बॉक्स हाल में लोकल पर्चेजेस के तहत मंगवाए थे। बाहर एक-एक इंजेक्शन की कीमत करीब 5 हजार रुपए तक है और इतनी महंगी दवाइयों का भंडारण किए जाने वाले स्टोर्स के कर्मचारी की लापरवाही देखने को मिलती है।

इसे भी पढ़ें : 

आंध्र प्रदेश में कोरोना के 6,235 नये मामले दर्ज, 51 मरीजों की मौत
 
जीजीएच के अधिकारियों के मुताबिक चोरी करने वाले वार्ड ब्यॉय को सस्पेंड कर दिया गया है। साथ ही इस घटना की जांच रिपोर्ट सौंपने के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि इस बाबत पुलिस में शिकायत की जाएगी। साथ ही प्राइवेट मेडिकल स्टोर्स के मालिक से पूछताछ कर उसके खिलाफ कार्रवाई के लिए ड्रग कंट्रोल अधिकारियों से अपील की गई है।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.