RBI गवर्नर : कोरोना खत्म होने के बाद तेजी से बढ़ेगी विकास दर

17 Apr, 2020 10:34 IST|Sakshi
आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास

नई दिल्ली : भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास रुपये में गिरावट और अन्य वित्तीय बाजारों में अस्थिरता के बीच आज मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के चलते पैदा हुई परिस्थितियों पर आरबीआई नजर रखे हुए है।

भारतीय रुपया गुरुवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 0.55 प्रतिशत गिरकर नए रिकॉर्ड निचले स्तर 76.86 पर पहुंच गया था, जबकि कोरोना वायरस संकट के चलते शेयर सूचकांकों में जनवरी के बाद से 30 प्रतिशत से अधिक की गिरावट हो चुकी है। 

आरबीआई गवर्नर ने आईएमएफ के अनुमानों का हवाला देते हुए कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था में 2021-22 में तेजी से सुधार की उम्मीद है। भारत के लिए आईएमएफ का जीडीपी वृद्धि अनुमान 1.9 प्रतिशत है, जो जी20 देशों में सबसे अधिक है। 

गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि कोरोना महामारी के प्रकोप के दौरान सामान्य कामकाज सुनिश्चित करने के लिए बैंकों, वित्तीय संस्थानों ने विशेष तैयारी की हैं और कोविड-19 महामारी के चलते पैदा हुई परिस्थितियों पर आरबीआई नजर रखे हुए है।

यह भी पढ़ें :

कोरोना संकट के बीच RBI की बड़ी घोषणा, रेपो रेट में कटौती का ऐलान

कोरोना वायरस के दहशत के बीच RBI ने बनाया '' वार-रूम'', ऐसे करेगा काम

आरबीआई गवर्नर ने 25 मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन लागू होने के बाद से दूसरी बार मीडिया को संबोधित किया है। इससे पहले 27 मार्च को आरबीआई ने समय से पहले मौद्रिक नीति समिति की बैठक में रिपो दरों में रिकॉर्ड 0.75 प्रतिशत की कटौती करने की घोषणा की थी। इसके साथ ही रेपो दर 15 साल के निचले स्तर 4.40 प्रतिशत पर आ गई थी।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.