सीएम जगन से मिला 'पोस्को' का प्रतिनिधि मंडल, कहा-आंध्र में भारी निवेश को तैयार

29 Oct, 2020 19:38 IST|संजय कुमार बिरादर
सीएम जगन से भेंट करते हुए पोस्को कंपनी के प्रतिनिधि

ताड़ेपल्ली : प्रमुख कोरियाई कंपनी पोस्को राज्य में निवेश करेगी। पोस्को कंपनी के प्रतिनिधि मंडल ने गुरुवार को कैंप कार्यालय में सीएम वाईएस जगन मोहन रेड्डी से भेंट की। इस मौके पर कोरियाई कंपनी के प्रतिनिधियों ने बताया कि आंध्र प्रदेश में बड़े स्तर पर अपनी इकाइयां स्थापित करने के लिए उनकी कंपनी तैयार है।

इस मौके पर सीएम जगन ने कंपनी के प्रतिनिधियों को विश्वास दिलाया कि राज्य में अत्यंत पारदर्शी नीतियां अमल में हैं, जो औद्योगिक क्षेत्र के लिए काफी उपयोगी साबित होंगी। उन्होंने कहा कि राज्य में निवेश करने के लिए आने वाली कंपनियों को प्रोत्साहित किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि प्राकृतिक संसाधनों की दृष्टि से राज्य में अनुकूल माहौल उद्योगों के लिए फायदेमंद साबित होने के अलावा औद्योगिक विकास में सहयोग देंगे। मुख्यमंत्री वाईएस जगन से भेंट करने वालों में पोस्को इंडिया के ग्रुप चेयरमैन, मैनेजिंग डायरेक्टर संग लाई चुन, चीफ फायनांसिंग ऑफिसर गू यंग अन, वरिष्ठ महाप्रबंधक जंग ले पार्क आदि शामिल हैं।

इससे पहले सार्वजनिक क्षेत्र की राष्ट्रीय इस्पात निगम लि. (आरआईएनएल) तथा दक्षिण कोरिया की कंपनी पॉस्को ने आंध्र प्रदेश में नए इस्पात कारखाने के लिए व्यवहार्यता-पूर्व रिपोर्ट तैयार करने को एक संयुक्त कार्यसमूह का गठन किया है। 

 इससे पहले पॉस्को के प्रतिनिधियों तथा इस्पात मंत्रालय के अधिकारियों की जुलाई, 2020 में वर्चुअल बैठक हुई थी। उसमें मंत्रालय ने उसे आरआईएनएल के साथ हुए अपने सहमति ज्ञापन (एमओयू) के क्रियान्वयन के लिए संयुक्त कार्यसमूह बनाने को कहा गया था। यह एमओयू विशाखापत्तनम में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी आरआईएनएल के स्वामित्व वाली जमीन पर निवेश के बारे में था। 

इस्पात मंत्रालय के एक सूत्र ने कहा, ‘‘पॉस्को ने विशाखापत्तनम में इस्पात संयंत्र लगाने की इच्छा जताई है। व्यवहार्यता पूर्व अध्ययन के लिए एक संयुक्त कार्यसमूह बनाया गया है।'' सूत्र ने बताया कि कार्यसमूह इस्पात मंत्रालय को कार्य में हुई प्रगति से अवगत कराएगा। पॉस्को और आरआईएनएल के बीच काफी समय से संयुक्त उद्यम में विशेष ग्रेड के मूल्यवर्धित इस्पात के विनिर्माण के लिए संयंत्र लगाने की बातचीत चल रही है। 

इसे भी पढ़ें : 

विशाखा में मेट्रो क्षेत्रीय कार्यालय का शुभारंभ, स्टील प्लांट से भोगापुरम तक होगा कॉरिडोर

आरआईएनएल के साथ संयुक्त उद्यम के जरिये पॉस्को भारत के तेजी से बढ़ते इस्पात बाजार में प्रवेश कर सकेगी। पॉस्को पिछले 15 साल से भारतीय बाजार में उतरने का प्रयास कर रही है। इससे पहले कंपनी ने ओड़िशा के जगतसिंहपुर में 52,000 करोड़ रुपये की लागत से वार्षिक 1.2 करोड़ टन उत्पादन क्षमता का इस्पात संयंत्र लगाने का प्रस्ताव किया था। इस बारे में पॉस्को तथा ओड़िशा सरकार के बीच 2005 में एमओयू हुआ था। तमाम अड़चनों के बाद कंपनी इस परियोजना पर आगे नहीं बढ़ पाई थी।

Related Tweets
Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.