गीतम विश्वविद्यालय में ढहाया गया अवैध कब्जा, पिछली सरकार में जमकर हुई थी मनमानी

24 Oct, 2020 09:13 IST|मीता
गीतम विश्वविद्यालय

विशाखापट्टनम मे अवैध निर्माण ढहाए गए

गीतम विश्वविद्यालय ने लगभग 40.51 एकड़ सरकारी भूमि पर कब्जा कर रखा था

विशाखापट्टनम : राजस्व विभाग के अधिकारियों द्वारा गीतम विश्वविद्यालय के अवैध निर्माण ढहाए गए । अधिकारियों ने विशाखापट्टनम शहर में ऋषिकोंडा के पास स्थित  गीतम विश्वविद्यालय के पास बड़ी मात्रा में सरकारी भूमि को जब्त किया है। 

राजस्व अधिकारियों द्वारा की गई प्रारंभिक जांच से पता चला  कि गीतम विश्वविद्यालय ने लगभग 40.51 एकड़ सरकारी भूमि पर कब्जा कर रखा था। आरडीओ किशोर की देखरेख में राजस्व कर्मचारी सुबह 6 बजे से सरकारी जमीनों की पहचान कर रहे हैं और उन्हें जब्त करने की प्रक्रिया जारी है। इसके चलते पुलिस ने यूनिवर्सिटी की ओर जाने वाली सड़क को यातायात के लिए बंद कर दिया था।


सरकार ने अवैध कब्जे पर विश्वविद्यालय से की पूछताछ 

सरकार ने जिला राजस्व अधिकारियों द्वारा दी गई रिपोर्ट पर ध्यान केंद्रित किया कि गीतम शैक्षिक संस्थानों के कब्जे में 40.51 एकड़ सरकारी भूमि है।

राजस्व अधिकारियों ने पाया है कि पिछली सरकार के कार्यकाल के दौरान प्राधिकरण के साथ हस्तक्षेप करते हुए एंडाड और ऋषिकोंडा के आस-पास की भूमि पर कब्जा कर लिया था। प्राधिकरण एक व्यापक जांच करने और एक बार फिर सरकार को एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने की तैयारी कर रहा है।

गीतम के तहत न्यायालयीन मामलों में भूमि किस-किस गाँव के अंतर्गत आती है? इस पर एक रिपोर्ट प्रदान की जाएगी कि कब्जे किस हद तक हुए।

इसके अलावा तत्कालीन सरकार के समय अधिकारियों के शैक्षणिक संस्थानों के बीच एक अंडरपास सड़क के निर्माण पर सरकार को एक रिपोर्ट भी सौंपी। ऋषिकोंडा और एंडाड के गांवों में गीतम इंजीनियरिंग कॉलेज को मेडिकल कॉलेज से जोड़ने के लिए एक सुरंग का निर्माण किया गया था।

इसे भी पढ़ें : 

कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए CM जगन ने मांगा बैंकर्स का सहयोग

पिछली सरकार के शासनकाल में  बिना किसी पूर्ण स्वीकृति के अंडरपास का निर्माण जिवो के नाम से पूरा हुआ। सरकार इस मुद्दे पर भी ध्यान केंद्रित कर रही है।

Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.