विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान टीडीपी के 12 सदस्य निलंबित

1 Dec, 2020 18:33 IST|के. लक्ष्मण
चंद्रबाबू नायडू

टीडीपी सदस्यों ने सभा की कार्यवाही में पैदा की अड़चनें

चंद्रबाबू ने स्पीकर की ओर उठाई उंगली

वाईएसआरसीपी सदस्यों ने की माफी मांगने की मांग

अमरावती : आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) में विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान दूसरे दिन स्पीकर तम्मिनेनी सीताराम (Thammineni Seetharam) ने टीडीपी (TDP)के 12 सदस्यों को निलंबित किया। सत्र के पहले दिन भी टीडीपी के मुखिया चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) के साथ 14 सदस्यों को स्पीकर ने एक दिन के लिए निलंबित कर दिया था। सत्र के दूसरे दिन सभा की कार्यवाही के दौरान टीडीपी के सदस्यों ने पोडियम के पास आकर प्रदर्शन किया। साथ ही शोरशराबा किया। इस पर स्पीकर ने टीडीपी के 12 सदस्यों को एक दिन के लिए निलंबित कर दिया। 

टीडीपी के मुखिया और आंध्र प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष चंद्रबाबू नायडू ने विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान दूसरे दिन भी कार्यवाही में अड़चनें पैदा करने का प्रयास किया। उन्होंने स्पीकर तम्मिनेनी सीताराम को अनुचित शब्द कहें। उनकी अवमानना की। स्पीकर की ओर उंगली उठाकर उन्हें धमकाने का काम किया। हाथ में पकड़े दस्तावेज स्पीकर की ओर फेंके। चंद्रबाबू के रवैये पर स्पीकर तम्मिनेनी गंभीर हुये। उन्होंने पूछा कि क्या स्पीकर को ही धमकाया जा सकता है? स्पीकर ने कहा कि चंद्रबाबू की धमकियों से वे डरनेवाले नहीं हैं। उन्होंने चंद्रबाबू से सभा में बात करने की आदत बदलने को कहा। 

इसे भी पढ़ें :

चंद्रबाबू नायडू समेत टीडीपी के 14 सदस्य विधानसभा से निलंबित

स्पीकर के प्रति चंद्रबाबू का रवैया देख वाईएसआरसीपी (YSRCP)के सदस्यों ने नेता प्रतिपक्ष का विरोध किया। उन्होंने चंद्रबाबू को बिना शर्त स्पीकर से क्षमा मांगने को कहा। मंत्री शंकर नारायण ने आरोप लगाया कि चंद्रबाबू नायडू ने आर्थिक पिछड़े (बीसी) लोगों का अपमान किया है। चंद्रबाबू को अपमान करने की आदत लग गई है। डिप्टी सीएम अमजद पाशा ने पूछा कि सभा की कार्यवाही के दौरान किस तरह का व्यवहार करना चाहिए, क्या उन्हें इसकी जानकारी नहीं है? 

Related Tweets
Load Comments
Hide Comments
More News
आंध्र-प्रदेश
मुख्य समाचार
.